रेस्टोरेंट में बने थे अय्याशी के केबिन:आगरा पुलिस ने रेड मारकर बनाए वीडियो; पुलिस ने कहा- कार्रवाई के लिए रिपोर्ट भेजी गई

आगरा4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक तस्वीर - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक तस्वीर

आगरा के थाना हरीपर्वत पुलिस का शर्मनाक कारनामा सामने आया है। यहां घंटे के हिसाब से अय्याशी के लिए केबिन दे रहे कैफे पर पुलिस ने रेड मारी। इस दौरान लड़के-लड़कियों के आपत्तिजनक अवस्था में वीडियो बनाए। अब ये वीडियो वायरल कर दिए। एएसपी सत्यनारायण के अनुसार, रेस्टोरेंट के खिलाफ सराय एक्ट में कार्रवाई के लिए प्रशासन को रिपोर्ट भेजी गई है।

पहले जानिए क्या है पूरा मामला
संजय प्लेस शू मार्केट में कैफे हाउस नाम से एक रेस्टोरेंट है। इसके बेसमेंट में केबिन बने हैं। इन केबिनों को उनका मालिक 200 रुपए घंटा के हिसाब से देता था। बताया जा रहा है कि 27 जुलाई यानी बुधवार को संजय प्लेस चौकी की पुलिस अचानक वहां पहुंची और केबिन खुलवाए।

केबिन के अंदर कुछ जोड़े आपत्तिजनक अवस्था में मिले। साथ ही वहां काफी मात्रा में अश्लील सामग्री भी मिली थी। पुलिस ने उस मामले में प्रशासन को सराय एक्ट में कार्रवाई की रिपोर्ट भेज कर इतिश्री कर ली।

बुधवार को वायरल हुआ वीडियो
10 अगस्त यानी बुधवार को संजय प्लेस में एक प्राइवेट संस्थान के कर्मचारियों के ग्रुप में पुलिस कार्रवाई का वीडियो वायरल हो गया। इसमें आपत्तिजनक अवस्था में युवक-युवतियां रो-रो कर गुहार लगाते हुए मुंह छिपा रहे हैं।

वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस की हुई किरकिरी
वीडियो वायरल होने के बाद सोशल मीडिया पर चर्चा शुरू हो गई है। युवक-युवतियों के चेहरे सार्वजनिक होने पर लोग पुलिस को दोष दे रहे हैं।

दुकान मालिक ने किराए पर दी थी जगह
कैफे के आस-पास के लोगों ने बताया कि दुकान स्वामी ने किराए पर जगह दी थी। पुलिस रेड के बाद उसने रेस्टोरेंट खाली करने को कह दिया। काफी सामान हटाया जा चुका है।

थाना हरीपर्वत एसओ अरविंद कुमार ने वीडियो पुराना होने और अपने किसी स्टाफ के न होने की बात कही है। एएसपी हरिपर्वत सत्य नारायण ने बताया कि रेस्टोरेंट संचालक पर सराय एक्ट में कार्रवाई के लिए रिपोर्ट भेजी गई है।

1 रेस्टोरेंट ने की शुरुआत, अब कई जगह चलता है धंधा
दीवानी के पास एक नामी होटल ने कई साल पहले 60 रुपए घंटे के हिसाब से केबिन देकर अश्लीलता करवाना शुरू किया था। आज भी वहां ऐसा ही हो रहा है। लोग वहां जाने के नाम से शर्माते हैं। इसके बाद कई अन्य रेस्टोरेंट में इस तरह का काम शुरू हो गया।