पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हनीट्रैप में फंसाकर किया था डॉक्टर का अपहरण:महिला ने फोन करके बुलाया, 5 करोड़ की फिरौती वसूलने का था प्लान; पुलिस ने 30 घंटे बाद चंबल के बीहड़ से बरामद किया

आगरा2 महीने पहले

उत्तर प्रदेश के आगरा से अगवा सीनियर डॉक्टर उमाकांत गुप्ता को राजस्थान के धौलपुर की STF ने गुरुवार तड़के 2 बजे छुड़ा लिया। बदन सिंह गैंग के बदमाशों ने डॉक्टर गुप्ता को किडनैप करने के बाद चंबल के बीहड़ों में बंधक बनाकर रखा था। पुलिस ने इस मामले में एक युवती और एक बदमाश को पकड़ा है। डॉक्टर को हनीट्रैप में फंसाकर अगवा किया गया था। किडनैपिंग के 30 घंटे के बाद रात दो बजे डॉक्टर को छुड़ाया गया।

पुलिस का दावा है कि डॉक्टर गुप्ता आरोपी महिला से करीब एक माह से संपर्क में थे। महिला ने ही मंगलवार की शाम फोन करके बुलाया था। वे जब भगवान टाकीज चौराहे पर पहुंचे तो उनकी कार में महिला आकर बैठ गई थी। इसके बाद वे रोहता गए, जहां कार में तीन बदमाश बैठे और उन्हें अगवा कर लिया था। बदमाशों ने डाॅक्टर के परिवार से 5 कराेड़ रुपए की फिरौती वसूलने की योजना बनाई थी। हालांकि, अभी परिवार को फिरौती का फोन नहीं किया गया था।

आरोपी महिला।
आरोपी महिला।

हॉस्पिटल के लिए निकले थे, तभी हुए लापता
एत्माउद्दौला थाना क्षेत्र में ट्रांस यमुना कालोनी फेस-2 में डॉक्टर उमाकांत गुप्ता का विद्या नर्सिंग होम है। नर्सिंग होम के पीछे ही उनका निवास है। डॉ. गुप्ता मंगलवार शाम 7:30 बजे अपने घर से कार से (UP 80 EJ 7472) से हॉस्पिटल जाने के निकले थे। आम दिनों में वो 10 बजे तक लौट आते थे। मगर, मंगलवार को रात 11 बजे तक वापस नहीं आए। उनके दोनों मोबाइल फोन भी रात साढे़ आठ बजे से बंद आ रहे थे। ऐसे में डॉ. उमाकांत की पत्नी डा. विद्या गुप्ता को चिंता हुई। उन्होंने इसकी सूचना पुलिस को दी। इसके बाद पुलिस की कई टीम डॉक्टर की तलाश में जुट गई। मामले में आगरा पुलिस ने मध्य प्रदेश की पुलिस की भी मदद ली।

STF टीम और बदमाशों के चंगुल से छूटे उॉक्टर उमाकांत। (लाल शर्ट में)
STF टीम और बदमाशों के चंगुल से छूटे उॉक्टर उमाकांत। (लाल शर्ट में)

चबूतरे के नीचे छिपा रखा था

पुलिस का कहना है कि डॉक्टर उमाकांत गुप्ता को चार बदमाश आगरा से उनकी कार में ही किडनैप कर पहले धौलपुर ले गए थे। धौलपुर के दिहौली क्षेत्र के कठमूरी गांव में तीन बदमाश डॉक्टर को लेकर उतर गए थे। वहां से चंबल के बीहड़ में प्रवेश कर गए थे। वहीं, कार को ले जा रहे बदमाश को धौलपुर शहर में चेकिंग के दौरान मंगलवार रात को पकड़ लिया गया था। यहां पर बदमाश से पूछताछ के बाद अपहरण की कहानी पता चली थी। इसके बाद आगरा और धौलपुर की स्पेशल टीमों ने डॉक्टर की बरामदगी के प्रयास शुरू कर दिए थे। 30 घंटे बाद बुधवार रात दो बजे धौलपुर के बीहड़ से डॉक्टर को मुक्त कराया गया। धौलपुर में एसपी केसर सिंह शेखावत के निर्देशन में टास्क फोर्स ने रात को फिर से बीहड़ में सर्च ऑपरेशन चलाया।

राजस्थान के धौलपुर से बरामद हुई डॉक्टर की कार। निहालगंज थाने में खड़ी कार।
राजस्थान के धौलपुर से बरामद हुई डॉक्टर की कार। निहालगंज थाने में खड़ी कार।

आगरा पुलिस को 4 लाख का रिवॉर्ड
एडीजी जोन राजीव कृष्ण ने बताया कि डॉक्टर को सकुशल बरामद करने पर एसीएस होम अवनीश अवस्थी और डीजीपी की ओर से इस आपरेशन में लगी टीमों को दो-दो लाख रुपये का रिवॉर्ड देने की घोषणा की है। वहीं, बदमाशों के चंगुल से मुक्त हुए डॉक्टर उमाकांत ने भी पुलिस टीम को एक लाख रुपये देने की बात कही है। वहीं, उन्होंने धौलपुर पुलिस के योगदान की भी सराहना की है।

बदमाशों पर किया इनाम घोषित
एडीजी जोन ने बताया कि डॉक्टर के अपहरण में युवती समेत 6 लोग शामिल थे। इनमें से पवन निवासी निबोहरा आगरा और मंगला उर्फ संध्या पाटीदार महाराष्ट्र को गिरफ्तार किया गया है। इसके अलावा गैंग का सरगना धौलपुर निवासी बदन सिंह तोमर पर एक लाख और अन्य सदस्य भोला, धर्मेंद्र व भोला कुमार पर 25-25 हजार रुपये का इनाम घोषित किया जा रहा है। इसके साथ बदमाशों की मदद करने वालों की भी तलाश की जा रही है।

बेटे ने कराया अपहरण का मुकदमा
डाॅक्टर उमाकांत गुप्ता की पत्नी विद्या गुप्ता व दोनों बेटे अभिषेक और अभिलाष भी डॉक्टर हैं। तीनोंं शुरू से ही अपहरण की आशंका जता रहे थे। डॉक्टर के बेटे अभिषेक ने एत्माद्दौला थाने में अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया। डॉक्टर की बरामदगी के बाद परिवार के चेहरे पर सुकून आया है। बेटे ने बताया कि किडनैपिंग के बाद पिता की आंखों में पट्‌टी बांध दी थी।

कैंसर से जीत चुके हैं जंग
डा. उमाकांत गुप्ता को पिछले साल कैंसर हो गया था। मगर, उन्होंने अपनी हिम्मत और जज्बे से कैंसर को मात दे दी। डाक्टर की सकुशल वापसी के लिए उनके परिजनों ने प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को ट्वीट कर उनको जल्द तलाशने का आग्रह किया था।

डॉक्टर की तलाश में आगरा और राजस्थान पुलिस ने मिलकर चंबल में कांबिंग की थी।
डॉक्टर की तलाश में आगरा और राजस्थान पुलिस ने मिलकर चंबल में कांबिंग की थी।

चंबल में सक्रिय है कई गैंग
पूर्व में कई पकड़ को धौलपुर और चंबल के बीहड़ में रखा गया है। वहां पर पकड़ करने वाले कई गैंग अभी भी सक्रिय हैं। ऐसे में फरार आरोपियों की तलाश में आगरा पुलिस धौलपुर पुलिस के साथ बीहड़ में कॉबिंग कर रही है।

इसी नर्सिंग होम का संचालक है डॉक्टर।
इसी नर्सिंग होम का संचालक है डॉक्टर।