पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आगरा में विरोध प्रदर्शन:किसान बिल की प्रतियां फाड़ने पहुंचे तहसील, पुलिस ने छीनकर जेब में रखी

आगरा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आगरा में जमकर विरोध प्रदर्शन। - Dainik Bhaskar
आगरा में जमकर विरोध प्रदर्शन।

उत्तर प्रदेश के आगरा जिले में केंद्र सरकार द्वारा पारित किये गए कृषि बिल के एक साल पूरे होने पर भारतीय किसान यूनियन के आह्वान पर किसान नेता सैकड़ों किसानों के साथ सदर तहसील पहुंचे और सरकार विरोधी नारों के साथ कृषि बिल की प्रतियां फाड़ने का प्रयास किया। पुलिस ने तत्काल सबसे बिल की प्रतियां छीनी और उन्हें अपनी जेबों में रख लिया। किसान नेताओं ने सरकार के द्वारा मांगे न माने जाने पर भविष्य में हिंसक आंदोलन करने की चेतावनी दी है।

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत के आह्वान पर पूरे देश में किसानों द्वारा कृषि बिल के विरोध में जिला मुख्यालय और तहसीलों पर कृषि बिल की प्रतियां फाड़ कर विरोध किया जाना था। इसी के क्रम में भाकियू महिला मंडल की जिलाध्यक्ष सावित्री चाहर और भाकियू नेता राजवीर लवानिया के नेतृत्व में किसानों ने सदर तहसील का घेराव किया और जमकर सरकार विरोधी नारेबाजी की।

पुलिस और किसानों के बीच नोकझोंक
किसानों ने कृषि बिल की प्रतियां हाथ में ले रखी थीं और जैसे ही उन्होंने प्रतियां फाड़ने का प्रयास किया तो पुलिस ने उनसे प्रतियां छीन लीं। प्रतियों को छीनने का दौरान जब उन्हें रखने की कोई व्यवस्था पुलिस को दिखाई नहीं दी तो पुलिसकर्मियों ने प्रतियों को जेब में ही भर लिया। प्रदर्शन कि दौरान पुलिस और किसानों के बीच हल्की नोकझोंक भी हुई।

कई नेताओं को कर दिया था नजरबंद
किसानों के आंदोलन की पूर्व घोषणा के बाद पुलिस भी अलर्ट थी। सुबह से ही जिला मुख्यालय और तहसीलों पर पुलिस फोर्स तैनात था और पुलिस ने किसान नेता श्याम सिंह चाहर समेत तमाम कस्बों के नेताओं को नजरबंद कर रखा था।

एसएसपी बोले, माहौल सामान्य
एसएसपी मुनिराज के अनुसार, शहर और जिले में पहले से अलर्ट जारी किया गया था। कोविड महामारी के नियमों, लॉकडाउन और धारा 144 लागू होने के चलते किसी तरह के प्रदर्शन की अनुमति नहीं है। जिले में माहौल सामान्य है।

खबरें और भी हैं...