• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Agra
  • The City Mufti Said That This Is A Call To The Havoc Of Allah, The Chairman Said, I Have Removed And Will Get The NSA Installed, The Tricolor Was Hoisted By The Chairman Of The Minority Commission

आगरा में राष्ट्रगान गाने पर मौखिक फतवा:शहर मुफ्ती ने कहा- मस्जिद में जन-गण-मन का गायन हराम, ये अल्लाह के कहर को बुलावा; कमेटी चैयरमैन ने मुफ्ती को पद से हटाया

आगरा5 महीने पहले
आगरा में जामा मस्जिद में झंडारोहण और राष्ट्रगान पर शहर मुफ्ती ने ऐतराज जताया है।

आगरा में स्वतंत्रता दिवस पर राज्य अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष अशफाक सैफी ने जामा मस्जिद के अंदर तिरंगा फहराया था। इस मामले में शहर मुफ्ती और इमाम-ए-ईदगाह मौलाना उमैर ने मौखिक फतवा जारी किया है। मुफ्ती ने मस्जिद में राष्ट्रगान गायन को हराम बताया है। मुफ्ती के फतवा जारी करने के बाद राज्य अल्पसंख्यक आयोग ने इसकी निंदा करते हुए माफी मांगने की बात कही है। वहीं, चैयरमैन असलम कुरैशी ने मुफ्ती को पदमुक्त करते हुए नेशनल सिक्यूरिटी एक्ट यानी NSA के तहत कार्रवाई कराने की बात भी कही है।

जामा मस्जिद के अंदर है मदरसा-ए-औलिया
आगरा की शाही जामा मस्जिद के अंदर मदरसा-ए-औलिया स्थापित है। यहां रविवार को स्वतंत्रता दिवस पर झंडारोहण के लिए राज्य अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष अशफाक सैफी को मुख्य अतिथि के रूप में बुलाया गया था। अशफाक सैफी ने झंडारोहण किया गया और उसके बाद राष्ट्रगान और हिंदुस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए गए।

इसके बाद शहर मुफ्ती मौलाना उमैर ने चेयरमैन को फोन कर कहा कि जामा मस्जिद को खराब मत कीजिए। वहां जो जन-गण-मन का गायन हुआ है वह हराम है। आप इस तरह से अल्लाह के कहर को दावत न दीजिए। डरिए अल्लाह से, अल्लाह की पकड़ बहुत मजबूत है।

जामा मस्जिद स्थित मदरसे में मुख्य अतिथियों का सम्मान हुआ
जामा मस्जिद स्थित मदरसे में मुख्य अतिथियों का सम्मान हुआ

भारत का नहीं तो क्या हम वहां पाकिस्तान का झंडा फहराएंगे: मस्जिद कमेटी के चेयरमैन
इसके बाद इस मामले ने तूल पकड़ लिया। दैनिक भास्कर से बातचीत में अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष अशफाक सैफी ने कहा कि शहर मुफ्ती का बयान निंदनीय है। मेरे हिसाब से उन्हें सार्वजनिक रूप से अपनी बात वापस लेते हुए माफी मांगनी चाहिए। वहीं, जामा मस्जिद इंतजामिया कमेटी के चेयरमैन असलम कुरैशी का कहना है कि वहां मदरसा है। सालों से वहां झंडारोहण हो रहा है। हम भारत का झंडा और राष्ट्रगीत नहीं गाएंगे तो क्या पाकिस्तान का झंडा फहराएंगे।

असलम कुरैशी ने कहा कि मेरा बेटा मदरसे में शिक्षक है। उसने कहा है कि वो ऐसी नौकरी पर लात मारता है। हालांकि, मुफ्ती के राष्ट्र विरोधी बयान देने के बाद उसे तत्काल इमाम-ए-ईदगाह और मुफ्ती के पद से हटा दिया गया है। कमेटी चेयरमैन ने मुफ्ती के खिलाफ एनएसए की कार्रवाई की मांग की है।

शहर मुफ्ती बोले- हर काम के लिए उसकी एक खास जगह होती है
मुफ्ती मौलाना उमैर का कहना है कि जब कोई उन्हें वीडियो या फोटो दिखाकर किसी बात के जायज या हराम होने के बारे में पूछता है तो वो उन्हें जवाब देते हैं। पहले जामा मस्जिद के नीचे मैदान में हाई स्कूल में यह परेड वगैरह होती थी। अब यह मस्जिद में हो रही है। हर काम के लिए उसकी एक खास जगह होती है। इसलिए जामा मस्जिद में केवल अल्लाह की इबादत हो सकती है और किसी की नहीं।

इस मामले को जानबूझकर सियासी रूप दिया जा रहा है। मुफ्ती ने कहा कि पहले भी कुछ मुस्लिमों ने मनकामेश्वर मंदिर में नमाज पढ़ी थी। तब भी मैंने कहा था कि यह जायज नहीं है। क्योंकि वो मंदिर नमाज पढ़ने गए। जबकि नमाज मस्जिद में पढ़ी जा सकती थी।

मीडिया में आने के बाद इस मामले पर सोशल मीडिया पर मामले में बहस शुरू हो गई है। कुछ कुछ उलेमा इसे सही बता रहे हैं तो कुछ इसे गलत मान रहे हैं।

खबरें और भी हैं...