• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Agra
  • The Salary Of July Did Not Come In The Account Of 10 Thousand Teachers And Employees Of Basic Education Department, Those Who Got The Vaccine, They Are Also Getting Punishment, Resentment Among Teachers

आगरा में वैक्सीन न लगवाने वाले शिक्षकों का रोका वेतन:बेसिक शिक्षा विभाग के 10 हजार शिक्षक व कर्मचारियों के खाते में नहीं आया जुलाई का वेतन, जिन्होंने वैक्सीन लगवाई उन्हें भी मिल रही सजा, शिक्षकों में आक्रोश

आगरा:5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बीएसए ने वैक्सीन न लगवाने वाले शिक्षकों का वेतन रोकने का आदेश जारी किया है - Dainik Bhaskar
बीएसए ने वैक्सीन न लगवाने वाले शिक्षकों का वेतन रोकने का आदेश जारी किया है

आगरा के कार्यकारी जिला बेसिक शिक्षाधिकारी ने एक फरमान जारी किया है। इसमें उन्होंने कोविड वैक्सीन न लगवाने वाले शिक्षक और शिक्षणेत्तर कर्मचारियों का वेतन रोकने का आदेश किया है। उन्होंने दो दिन में सभी से वैक्सीनेशन के प्रमाण पत्र मांग हैं। बीएसए के इस आदेश से शिक्षक और कर्मचारियों में आक्रोश है।

10 हजार शिक्षक हुए प्रभावित
बेसिक शिक्षा विभाग के शिक्षक और शिक्षणेत्तर कर्मचारी वेतन का इंतजार कर रहे थे। मगर, पांच जुलाई को उनके खातों में वेतन नहीं आया। वेतन न आने पर जब उन्होंने इस संबंध में लेखाधिकारी कार्यालय में जानकारी की तो पता चला कि बीएसए द्वारा वेतन रोक दिया गया है। उन्होंने आदेश दिए हैं कि जिन शिक्षक और कर्मचारियों को कोविड वैक्सीन नहीं लगी है, उनका वेतन आहरित नहीं किया जाएगा। उन्होंने सभी खंड शिक्षाधिकारियों को दो दिन में अपने-अपने ब्लॉक में वैक्सीन न लगवाने वाले शिक्षक और कर्मचारियों की सूची कारण सहित मांगी है। तब तक के लिए वेतन आहरण पर रोक लगा दी गई है।

शिक्षकों में आक्रोश, जिनके वैक्सीन लगी, उनका वेतन क्यों रोका
बीएसए के इस आदेश से शिक्षकों में आक्रोश है। उनका कहना है कि वो वैक्सीन लगवाने के पक्ष में हैं, लेकिन बीएसए ने बिना किसी पूर्व सूचना के अचानक वेतन रोकने का आदेश दे दिया। प्राथमिक शिक्षक संघ के जिला मंत्री बृजेश दीक्षित का कहना है कि बीएसए को वैक्सीन न लगवाने वाले शिक्षकों का वेतन रोकना था तो इसके बारे में पूर्व में बताया जाना चाहिए था। शिक्षकों का समय दिया जाना चाहिए था, अगर इसके बाद भी वो वैक्सीन नहीं लगवाते तो वेतन रोकने का कदम उठाना चाहिए था। अब बीएसए ने बिना किसी चेतावनी के जुलाई माह का वेतन अगस्त में रोकने के आदेश दिए हैं। इसके अलावा बीएसए ने उन शिक्षकों का भी वेतन रोक दिया है वैक्सीन लगवा चुके हैं। बीएसए का यह आदेश उन शिक्षकों के लिए सजा है, जो वैक्सीन लगवा चुके हैं। अगर बीएसए ने अपने आदेश वापस नहीं लिया तो संगठन आंदोलन करेगा। वित्त एवं लेखाधिकारी पंकज कुमार ने बताया कि उनके यहां से वेतन की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। कोषागार से वैक्सीन न लगवाने वाले शिक्षक व कर्मचारियों को वेतन जारी करने पर रोक लगाई गई है। इस संबंध में बीएसए को अवगत करा दिया गया है।

खबरें और भी हैं...