आगरा.... सिविल एनक्लेव टर्मिनल के लिए अधिग्रहण:किसानों के विरोध पर टीम बैरंग हुई वापस, गुरुवार को जिलाधिकारी करेंगे फैसला

आगरा10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आगरा सिविल एन्क्लेव टर्मिनल एन्क्लेव के लिए भूमि अधिग्रहण करने गयी टीम को किसानों के विरोध के बाद वापस लौटना पड़ाआगरा सिविल एन्क्लेव टर्मिनल एन्क्लेव के लिए भूमि अधिग्रहण करने गयी टीम को किसानों के विरोध के बाद वापस लौटना पड़ा - Dainik Bhaskar
आगरा सिविल एन्क्लेव टर्मिनल एन्क्लेव के लिए भूमि अधिग्रहण करने गयी टीम को किसानों के विरोध के बाद वापस लौटना पड़ाआगरा सिविल एन्क्लेव टर्मिनल एन्क्लेव के लिए भूमि अधिग्रहण करने गयी टीम को किसानों के विरोध के बाद वापस लौटना पड़ा

आगरा सिविल एनक्लेव टर्मिनल के लिए थाना मलपुरा के बेलहरा गांव में भूमि अधिग्रहण करने गयी टीम को किसानों के विरोध के चलते बैरंग वापस लौटना पड़ा। जिलाधिकारी प्रभु नारायण सिंह द्वारा गुरुवार को किसानों से वार्ता करने के बाद आगे का फैसला लिया जाएगा।

जानकारी के मुताबिक आगरा में सिविल एनक्लेव टर्मिनल बनाये जाने का प्रस्ताव काफी समय से लंबित है। आगरा के खेरिया एयरपोर्ट पर सैन्य गतिविधियों के साथ सिविल फ्लाइट के चलने के कारण आम लोगों को काफी असुविधा का सामना करना पड़ता है और विदेशी फ्लाइट्स में भी काफी अड़चने आती नहीं। आगरा वासी काफी सालों से एयरपोर्ट की मांग कर रहे थे। आगरा को केंद्र ने इंटरनेशनल एयरपोर्ट तो नहीं दिया पर यहां सिविल एनक्लेव टर्मिनल को मंजूरी दी गयी थी। काफी जमीन अधिग्रहित करके चहारदीवारी बना दी गयी थी।

बुधवार हुआ जमकर हंगामा

जानकारी के मुताबिक बुधवार को थाना मलपुरा के बेलहरा गांव में नायब तहसीलदार दीप्ति चौधरी चार लेखपाल और पुलिस टीम के साथ भूमि अधिग्रहण के लिए पहुंची थी। यहां किसान महाराज सिंह वर्मा की चार बीघा जमीन में से एक बीघा अधिग्रहीत हो चुकी है और बाउंड्रीवाल के बाद उनके खेतों का रास्ता बैंड होने की नौबत है। इसको लेकर तमाम किसानों ,महिलाओं और ग्रामीणों द्वारा हंगामा शुरू हो गया। बहस के बाद अम्मले कि गंभीरता को देखते हुए गुरुवार को किसान और जिलाधिकारी के द्वारा वार्ता के बाद आगे कार्रवाई का निर्णय लिया गया है।