• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Agra
  • There Is Silence Since Morning, The Effect Of Corona And Code Of Conduct On Tourism, Only 9.5 Thousand Tourists Came On Saturday

सर्दी का सितम ताजमहल पर सैलानी हुए कम:सुबह से छाया है सन्नाटा, कोरोना और आचार संहिता का पर्यटन पर असर, शनिवार को आये मात्र 9 .5 हजार सैलानी

आगराएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
शनिवार को हल्की  बारिश के दौरान ताजमहल घुमते पर्यटक जल्दी वापस लौट गए - Dainik Bhaskar
शनिवार को हल्की बारिश के दौरान ताजमहल घुमते पर्यटक जल्दी वापस लौट गए

ताजनगरी आगरा में सुबह 9 बजे न्यूनतम तापमान 12 डिग्री सेल्सियस रहा। सर्दी बढ़ने और कोरोना की तीसरी लहार के चलते आगरा में सैलानियों का आना कम हो गया है।नव वर्ष की शुरुआत की तुलना में इस वीकेंड सैलानियों की संख्या में काफी गिरावट आयी है। रविवार को सुबह 9 बजे तक 550 के अलगभग टिकट ही ऑनलाइन बुक की गयी हैं। शनिवार को मात्र 9547 लोगों ने ताजमहल का दीदार किया। पुरातत्व विभाग के अनुसार दोपहर तक भीड़ बढ़ जाएगी और हमने कोरोना से सुरक्षा के सारे इंतजाम कर रखे हैं ,पर्यटकों की संख्या कम होने से एक बार फिर पर्यटन व्यवसाय से जुड़े लोगों को चिंता सताने लगी है।

बता दें की आगरा में कोरोना की तीसरी लहर का प्रकोप लगातार बढ़ता जा रहा है। मेयर ,विधायक और सांसद एसपी सिंह बघेल के बाद अब राज्य सभा सांसद एसपी सिंह बघेल भी कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं। आगरा में एक ओमीक्रॉन का संक्रमित भी मिल चुका है। शनिवार को 271 नए संक्रमित मिलने के साथ ही कुल संक्रमितों की संख्या 743 हो गई है। चिकित्सकों का मानना है की सर्दी के मौसम में वायरस अधिक समय तक ज़िंदा रह सकता है। इसके साथ ही आम लोगों का तीसरी लहर के लिए जागरूक न होना भी कोरोना को बढ़ने में सहायक हो रहा है। कोरोना के चलते रोजाना पांच हजार से ज्यादा लोगों की टेस्टिंग की जा रही है।

पर्यटकों मे संक्रमण का डर

होटल व्यवसायी रमेश वाधवा का कहना है की लोगों में कोरोना की तीसरी लहर को लेकर धीरे- धीरे डर बढ़ रहा है। ताजमहल पर भीड़ और अव्यवस्थाओं को मीडिया ने भी काफी प्रकाशित किया है। इसके चलते लोगों में डर नजर आ रहा है ,इसी कारण पर्यटकों की संख्या में गिरावट आयी है। पर्यटन उद्योग ऐसे ही बुरे हाल में चल रहा है ,अगर यही हाल रहा तो एक बार फिर इस व्यवसाय से किसी न किसी तरह जुड़े डेढ़ लाख से अधिक लोगों की आजीविका का साधन ख़त्म हो जाएगा।

खबरें और भी हैं...