वाटर वर्क्स चौराहे पर 20 बसों का चालान:बीच सड़क पर रास्ता रोक सवारी भरने से लग रहा था जाम, जाम लगने की शिकायत पर की गई कार्रवाई

आगरा:5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
गुरुवार को चौराहे पर अभियान चला कर जाम लगाने वाली 20 रोडवेज व निजी बसों का चालान किया गया। - Dainik Bhaskar
गुरुवार को चौराहे पर अभियान चला कर जाम लगाने वाली 20 रोडवेज व निजी बसों का चालान किया गया।

आइजी नवीन अरोरा द्वारा यातायात को सुधारने के लिए अभियान चला रखा है। मगर, वाटर वर्क्स चौराहे पर बसों के बीच के बीच सड़क पर खड़ा होने से जाम की स्थिति बनी रहती थी। गुरुवार को चौराहे पर अभियान चला कर जाम लगाने वाली 20 रोडवेज व निजी बसों का चालान किया गया।

आइजी ने चलाया है अभियान
शहर में चौराहों पर लगने वाले जाम से मुक्ति दिलाने के लिए आइजी रेंज नवीन अरोरा ने 27 सितंबर से अभियान चला रखा है। पहले चरण में शहर के दस चौराहों को चिन्हित करके उन्हें अतिक्रमण मुक्त कराया जा रहा है। वाहनों की पार्किंग चौराहों से 70 मीटर दूर करने के निर्देश हैं। चौराहों पर यातायात व्यवस्था को सुगम बनाने के लिए प्रत्येक चौराहे पर सीओ, एएसपी व एसपी की ड्यूटी शाम के समय लगाई गई है। इसके बाद भी वाटर वर्क्स चौराहे पर रोक के बावजूद बसों के बीच सड़क पर खड़ा होने की शिकायत मिल रही थी। इसके बाद गुरुवार की दोपहर को प्रभारी एसपी ट्रैफिक सत्यजीत गुप्ता, यातायात निरीक्षक सतीश राय ने कमला नगर थाने की पुलिस के साथ अभियान चलाया। चौराहे पर रोडवेज व निजी बसों के खड़ा मिलने पर उनका चालान किया गया। इसके अलावा अधिकारियों ने बस चालकों को बताया गया कि वह स्टापेज के लिए निर्धारित जवाहर पुल से पहले खाली पड़ी जगह पर बसों को खड़ा करें। बसों को हाईवे पर खड़ा न करें, जिससे जाम की समस्या नहीं होगी।

चौराहे पर बनाई जेब्रा लाइन
यातायात निरीक्षक सतीश राय ने बताया कि वाटर वर्क्स चौराहे पर जेब्रा लाइन बनाई गई है। चौराहे पर कमला नगर व जीवनी मंडी की ओर जाने वाले वाहन सामने आ जाते थे। जिससे जाम की स्थिति पैदा हो जाती थी। इस समस्या को भी दूर कर दिया गया है। वाहन अपनी बाईं ओर के रास्ते से निकला करेंगे, जिससे वह आमने-सामने नहीं आएंगे।

रामबाग पर नहीं सुधरी स्थिति आइजी के अभियान के बाद भी रामबाग चौराहे की स्थिति में बाद भी रामबाग चौराहे पर जाम के हालात बने रहते हैं। जिस दिन अभियान की शुरुआत हुई थी, उस दिन जरूर पुलिस ने सख्ती बरती थी। अब पहले की तरह आटो और ठेले वाले चौराहे पर कब्जा किए हुए हैं।

खबरें और भी हैं...