पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आगरा में पुलिस ने चांदी व्यापारी की चमड़ी उधेड़ी:चोरी के शक में चांदी व्यापारी को थाने में डेढ़ घंटे तक रखकर टॉर्चर करने का आरोप, परिजनों ने कहा- जानबूझकर फंसाना चाहती है पुलिस

आगरा7 दिन पहले
पीड़ित व्यापारी से मिलते विधायक।

उत्तर प्रदेश के आगरा जिले में छत्ता थाना पुलिस की बर्बरता सामने आई है। आरोप है कि चोरी के शक में चांदी व्यापारी को डेढ़ घंटे तक थाने में रखकर उसे थर्ड डिग्री दी गई। इससे व्यापारी को काफी चोटें आई हैं। पीड़ित व्यापारी ने इस संबंध में विधायक योगेंद्र उपाध्याय से शिकायत की है। वह इस मामले में आरोपी पुलिस वालों के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। परिजनों का आरोप है कि पुलिस जानबूझकर फंसाने के लिए दबाव डाल रही है।

पहले की पूछताछ, अगले दिन टॉर्चर किया

जानकारी के अनुसार, थाना छत्ता अंतर्गत खालसा गली में सोमवार को चांदी व्यापारी के यहां चोरी हो गई थी। इसकी रिपोर्ट थाना छत्ता में लिखाई गई थी। पुलिस ने शक के आधार पर खालसा गली में ही चांदी का काम करने वाले यश वर्मा सहित कई लाेगों को पूछताछ के लिए सोमवार रात को थाने बुलाया था।

काफी देर पूछताछ के बाद उसे छोड़ दिया गया। इसके बाद मंगलवार शाम को यश के पास पीपल मंडी चौकी से किसी का फोन आया और उसे चौकी पर फिर पूछताछ के लिए बुलाया। आरोप है कि चौकी पर पूछताछ के नाम पर उसके साथ बर्बरता की गई। उसे थर्ड डिग्री दी गई। चौकी के बाद उसे फिर छत्ता थाने ले जाया गया। आरोप है कि यहां पर भी उसकी पिटाई की गई। करीब डेढ़ घंटे उसे थाने में रखा गया। रात को पुलिस ने उसे छोड़ा। पुलिस की पिटाई से यश को काफी चोट आई है।

परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने थाने में डेढ़ घंटे तक टॉर्चर किया।
परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने थाने में डेढ़ घंटे तक टॉर्चर किया।

विधायक से मिलकर की शिकायत

बुधवार दोपहर पीड़ित व्यापारी व अन्य लोग पुलिस की कार्रवाई के विरोध में दक्षिण विधानसभा विधायक योगेंद्र उपाध्याय से मिले। उन्हें आपबीती बताई। विधायक योगेंद्र उपाध्याय का कहना है कि पुलिस द्वारा युवक के साथ काफी बर्बरता की गई है। वह बैठ भी नहीं पा रहा था। इस पूरे घटनाक्रम से ADG को अवगत कराएंगे।

जानबूझकर फंसाने के लिए दबाव डाल रही पुलिस

वहीं, पीड़ित के भाई प्रशांत का कहना है कि आरोपी पुलिस वालों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए। पुलिस जान बूझकर फंसाने के लिए दवाब डाल रही थी। वहीं, इस मामले में छत्ता थाना इंस्पेक्टर राजकंवल बालियान का कहना है कि युवक को पूछताछ के लिए बुलाया था, उसके साथ कोई मारपीट नहीं की गई है। इस संबंध में एसपी सिटी रोहन प्रमाेद को फोन किया गया, लेकिन उनसे बात नहीं हो सकी।

खबरें और भी हैं...