मकर संक्रांति पर कोहरे के आगोश में आगरा:रेंग - रेंग कर चले वाहन, नहीं नजर आया ताजमहल, चाय और आग का सहारा

आगरा6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ताजनगरी आगरा में शुक्रवार को घना कोहरा छाया रहा - Dainik Bhaskar
ताजनगरी आगरा में शुक्रवार को घना कोहरा छाया रहा

ताजनगरी आगरा में मकर संक्रांति की सुबह जबरदस्त कोहरे ने जनजीवन को त्रस्त कर दिया। सुबह 9 बजे तक पारा अधिकतम 18 डिग्री और न्यूनतम 6 डिग्री के आस पास रहा और दस मीटर से ज्यादा की विजिबलटी नहीं रही। हाइवे पर वाहन रेंग - रेंग कर चले और सड़कों पर कम लोग ही निकलते दिखाई दिए। इस दौरान चाय और आग का ही सहारा नजर आया।

आगरा कैंट स्टेशन पर चाय की दूकान पर यात्री
आगरा कैंट स्टेशन पर चाय की दूकान पर यात्री

शुक्रवार सुबह मकर संक्रांति के अवसर पर लोग यमुना में स्नान करने पहुंचते हैं पर भीषण ठंड और कोहरे के चलते घाटों पर सन्नाटा नजर आया। चाय की दुकानों को छोड़ कर कहीं भी भीड़ नजर नहीं आई। कोहरे के हालात यह थे कि दस मीटर से आगे कुछ नजर नहीं आ रहा था। ठंड के कारण लोग घरों में दुबके रहे।

रामबाग क्षेत्र में आग तापते लोग
रामबाग क्षेत्र में आग तापते लोग

पर्यटकों को हुई परेशानी

शुक्रवार को ताजमहल बन्द होने के चलते पर्यटकों की भीड़ महताबबाग ताज व्यू पॉइंट पर पहुंची पर उन्हें निराशा ही हाथ लगी। खबर लिखे जाने तक महताबबाग से ताजमहल बिल्कुल धुंधला नजर आ रहा था। दिल्ली से आई पर्यटक आरती ने बताया की सुबह ताजमहल को देखने का मन था, इसलिए रात ही आगरा आ गए थे पर ताजमहल के साथ फोटो नहीं हो पाई है। अब किला देखने के बाद दोबारा आएंगे।

आगरा दिल्ली हाइवे पर सन्नाटा छाया रहा
आगरा दिल्ली हाइवे पर सन्नाटा छाया रहा

ट्रेनें हुई घण्टों लेट

कोहरा अधिक होने के कारण ज्यादातर ट्रेन तीन से चार घण्टे लेट थीं। अधिकतर यात्री आगरा कैंट रेलवे स्टेशन के आस पास चाय और नाश्ते की दुकानों पर अपना समय काट रहे थे। रोडवेज बसों को भी कोहरे के कारण गंतव्य तक पहुंचने में काफी देरी हुई। इसके साथ ही बसों की खिड़कियों के शीशों में खराबी के चलते ठिठुरना पड़ा। एक्सप्रेस वे पर भी अधिकतम 30 किमी घंटे की रफ़्तार से गाड़ियां चलती दिखाई दीं।

खबरें और भी हैं...