डॉ. बीआर आंबेडकर विश्वविद्यालय के कुलपति हाईकोर्ट की शरण:कुलपति प्रो. अशोक मित्तल ने दायर की रिट, कहा- सारे आरोप निराधार, उनका पक्ष नहीं सुना गया

आगरा:2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रो. अशोक मित्तल ने पांच अगस्त को हाईकोर्ट में रिट दायर की है। - Dainik Bhaskar
प्रो. अशोक मित्तल ने पांच अगस्त को हाईकोर्ट में रिट दायर की है।

डा. बीआर आंबेडकर विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. अशोक मित्तल ने अपने ऊपर लगाए आरोप और कार्य से विरत करने के आदेश के खिलाफ हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। उन्होंने इलाहाबाद हाईकोर्ट में रिट दायर की है। कुलपति ने अपने ऊपर लगे सारे आरोपों को खारिज किया है। उनका कहना है कि कार्य विरत करने से पहले उनका पक्ष नहीं सुना गया।

पांच अगस्त को दायर की रिट
कुलपति प्रो. अशोक मित्तल द्वारा हाईकोर्ट में पांच अगस्त को रिट दायर की गई है। रिट में कहा गया है कि उन्हें पांच जुलाई को कार्य विरत करने से पहले उनसे उनका पक्ष नहीं सुना गया। उन्हें कार्य से विरत करना भी अनुचित है। आरोप सिद्ध होने तक वह कुलपति पद पर आसीन रह सकते हैं। इसके लिए उन्होंने राज्य विश्वविद्यालय एक्ट के सेक्शन 12(13) का हवाला दिया है। रिट में उन्होंने कहा है कि कुछ आरोपों के आधार पर उनके खिलाफ कार्यवाही कर दी गई है।

नहीं की गई नियमों की अनदेखी
रिट में कहा गया है कि103 अतिथि प्रवक्ताओं की नियुक्ति में नियमों की अनदेखी नहीं की गई है। उनके अनुसार उन्होंने यूजीसी के नियमों का पालन किया है। सेल्फ फाइनेंस स्कीम के तहत ही उनका भुगतान किया गया है। अतिथि प्रवक्ताओं की नियुक्ति स्क्रीनिंग कमेटी द्वारा की गई है। वहीं, उन्होंने अधिवक्ता डा. अरूण कुमार दीक्षित द्वारा लगाए आरोपों को भी सिरे से नकार दिया है। उनका कहना है कि उन्होंने कोरोना संक्रमित होने के दौरान कोरोना प्रोटोकाल का पालन किया है। उन्होंने लीगल एडवाइजर के रूप में हरगोविंद अग्रवाल की नियुक्ति पर भी स्थिति स्पष्ट की है। उनका कहना है कि हरगोविंद अग्रवाल उनके रिश्तेदार नहीं है और उनको छह महीने के अनुबंध पर रखा गया है।

28 पेज की रिट में 53 बिंदुओं के जरिए रखा पक्ष
प्रो. अशोक मित्तल द्वारा 28 पेज की रिट दायर की गई है। इसमें उन्होंने 54 बिंदुओं में अपना पक्ष रखा है। अपने ऊपर लगे हर आरोप का उन्होंने जवाब दिया है। उन्होंने रिट में यह भी कहा है कि कार्य विरत के आदेश से पहले उन्हें कोई नोटिस भी नहीं दिया गया।

खबरें और भी हैं...