अलीगढ़ में बुखार से दो की मौत:पिछले तीन दिनों से अस्पताल में भर्ती था 24 वर्षीय युवक, ग्रामीणों ने किया विरोध, कोल विधायक ने लोगों को कराया शांत

अलीगढ़एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
डेंगू का मच्छर - Dainik Bhaskar
डेंगू का मच्छर

बुखार और डेंगू के कारण अलीगढ़ में भी लोगों की मौत का सिलसिला शुरू हो चुका है। बुधवार को हरदुआगंज क्षेत्र के गांव सिहोर में बुखार से एक महिला और एक युवक की मौत हो गई। परिजनों ने बताया कि दोनों मरीजों को डेंगू था, लेकिन स्वास्थ्य विभाग मरीजों को डेंगू होने से इनकार कर रहा है। जिसके बाद ग्रामीणों का गुस्सा फूट पड़ा और उन्होंने स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन का जमकर विरोध किया। मौके पर कोल विधायक अनिल पराशर पहुंचे और ग्रामीणों को समझा बुझाकर शांत कराया।

19 सितंबर को मरीज हुआ था भर्ती

बुखार आने के कारण सिरोह गांव निवासी सोनू पुत्र योगेश 19 सितंबर को एक निजी अस्पताल में भर्ती हुआ था। यहां से उसे दीनदयाल संयुक्त चिकित्सालय के लिए रेफर कर दिया गया था। लेकिन डीडीयू में मरीजों की संख्या फुल होने के कारण उसे बेड नहीं मिल सका, जिसके बाद उसे दूसरे निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। 20 सितंबर को सोनू के प्लेटलेट्ट्सस बेहद कम हो गए। जिसके बाद डॉक्टरो ने उसे पांच पैक प्लेटलेट्ट्सस चढ़ाए थे, जिसके बाद उसकी तबीयत में कुछ सुधार हुआ था। लेकिन बुधवार को अचानक उसकी तबीयत बिगड़ने लगी और उसकी मौत हो गई। मरीज की पुरानी रिपोर्ट में डेंगू संक्रमण की पुष्टि थी।

बुखार से महिला ने भी गंवाई जान

बुखार के कारण मौत का दूसरा मामला भी इसी गांव सिहोर का है। गांव के कमल कुमार की पत्नी नीरज को बुखार आ रहा था, जिसके बाद उसे स्वास्थ्य कैंप में दिखाया गया था। जहां से उसने दवाइयां ली थी, लेकिन हालत ज्यादा खराब होने के बाद परिजन उसे अस्पताल ले जाने की सोच ही रहे थे, कि इस दौरान नीरज की मौत हो गई। परिजनों के अनुसार नीरज को भी डेंगू था, जिसकी जांच स्वास्थ्य कैंप में की गई थी।

दो मौत की जानकारी मिलने पर बचा हड़कंप

अलीगढ़ जिले में बुखार के कारण एक ही दिन में दो मौत होने की जानकारी मिलने पर स्वास्थ्य विभाग में खलबली मच गई। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. आनंद उपाध्याय ने आनन फानन में चार टीमों का गठन कर गांव के लिए रवाना किया। मुख्य चिकित्सास अधीक्षक हरदुआगंज डॉ. वृजमोहन, संचारी रोग नियंत्रण अधिकारी हशमत उस्मानी, डॉ. रोहित गोयल, जिला मलेरिया अधिकारी राहुल कुलश्रेष्ठ, महामारी एक्सपर्ट डॉ. शोएब अंसारी के नेतृत्व में 4 टीमों ने गांव पहुंची और अन्य ग्रामीणों का भी सैंपल लिया। वहीं मृतक सोनू के परिजनों को अस्पताल में भर्ती कराने की कोशिश की गई, पर परिजन नहीं माने और उन्होंने टीम का जमकर विरोध किया। परिजन डेंगू के कारण मौत होने की बात कह रहे हैं, वहीं सीएमओ ने इससे इनकार किया। डॉ आनंद उपाध्याय ने बताया कि मरीजों को बुखार था

खबरें और भी हैं...