बुजुर्ग के दुष्कर्मियों को आजीवन कारावास:अलीगढ़ के अकराबाद में 60 साल की वृद्धा से किया था सामूहिक दुष्कर्म, चार साल बाद मिली सजा

अलीगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बुजुर्ग महिला से सामूहिक दुष्कर्म करने वालों को अदालत ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई। - Dainik Bhaskar
बुजुर्ग महिला से सामूहिक दुष्कर्म करने वालों को अदालत ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई।

अलीगढ़ के अकराबाद में 60 वर्षीय वृद्ध महिला से दुष्कर्म करने वालों को अदालत ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। चार साल से यह मामला न्यायालय में विचाराधीन था और लगातार इस मामले की सुनवाई चल रही थी।

अपर जिला एवं सत्र न्यायालय ने सारे मामले की सुनवाई करते हुए दोनों आरोपियों को दोषी पाया और उन्हें सजा सुनाई है। आजीवन कारावास के साथ ही दोनों दोषियों के ऊपर न्यायालय ने 25-25 हजार रुपए का आर्थिक दंड भी लगाया है। कोर्ट ने यह राशि पीड़िता को क्षतिपूर्ति के रूप में देने के आदेश दिए हैं।

एडीजीसी कृष्ण मुरारी जौहरी
एडीजीसी कृष्ण मुरारी जौहरी

अम्मा कहकर ले गए थे, फिर किया था दुष्कर्म

सरकारी वकील एडीजीसी कृष्ण मुरारी जौहरी ने बताया कि एडीजे तृतीय राजेश भारद्वाज के न्यायालय ने दोनों दोषियों को सजा सुनाई है। सजा पाने वाले दोनों दोषी सरजीत और सुनील उर्फ नहना पेशे से टेंपो चालक थे और महिला को धोखे से अपने साथ टेंपो में बैठाकर ले गए थे।

बुजुर्ग का बेटा बीमार था और बहू गर्भवती थी। दोनों आरोपी गांव के ही थे और बुजुर्ग महिला से बोला कि अम्मा चलो तुम्हे बेटे बहू से मिलवा लाते हैं। इसके बाद दोनों ने टेंपो को सूनसान इलाके में ले जाकर बुजुर्ग महिला के साथ बारी बारी दुष्कर्म किया था। जिसके बाद बुजुर्ग महिला के दमाद ने दोनों आरोपियों के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज कराया था।

जमानत पर जेल के बाहर था एक आरोपी

घटना के बाद 2018 में पुलिस ने दोनों आरोपियों को जेल भेज दिया था। जिसके कुछ दिन बाद सुनील जमानत पर रिहा हो गया था, लेकिन सरजीत जेल में ही था। जब अदालत ने दोनों को दोषी पाया और सजा सुनाई तो पुलिस ने जमानत पर रिहा चल रहे सुनील को भी पकड़ कर जेल भेज दिया।

वहीं एडीजीसी कृष्ण मुरारी जौहरी ने न्यायालय से इस मामले में सख्त सजा की मांग की है। उन्होंने दोनों को फांसी की सजा दिए जाने की मांग की। जिससे कि भविष्य में दुबारा कोई इस तरह का दुष्कृत्य न करे।