किशोरी की हत्या के मामले में 4 आरोपियों को उम्रकैद:अलीगढ़ में फावड़े से हत्या की थी, एडीजे कोर्ट ने सुनाया फैसला

अलीगढ़4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो।  - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक फोटो। 

अलीगढ़ में गुरुवार को हत्या के चार आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है। अपर जिला एवं सत्र न्यायधीश तृतीय ने सारे मामले की सुनवाई करते हुए, आरोपियों को दोषी पाया और उन्हें सजा दी है। सजा पाने वालों में एक महिला भी शामिल है।

आजीवन कारावास के साथ ही सभी आरोपियों पर 10-10 हजार का जुर्माना भी लगाया गया है। जुर्माना अदा न करने पर इन्हें एक साल साधारण कारावास की सजा और काटनी पड़ेगी। न्यायालय से सजा मिलने के बाद पुलिस ने आरोपियों को जेल भेज दिया है।

2020 में आरोपियों ने की थी हत्या

एडीजीसी कृष्ण मुरारी जौहरी ने बताया कि लोधा थाना में 29 अगस्त 2020 को पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया था। इसमें गांव हरिदासपुर की रहने वाली किशोरी शिखा (16) की हत्या और उसके परिवार के साथ मारपीट के मामले में पड़ोसियों को नामजद किया गया था।

मृतका की मां ममता मिश्रा की तहरीर पर पुलिस ने पड़ोसी राजू, उसकी पत्नी पूनम, पिता भूप सिंह व एक अन्य आरोपी गंगा राम उर्फ गंगा प्रसाद को नामजद किया था। मामले की जांच के बाद पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट पेश कर दी थी। जिसके बाद न्यायालय में मामले की सुनवाई लगातार चल रही थी। गुरुवार को एडीजे तृतीय राजेश भारद्वाज की कोर्ट ने फैसला सुनाया है।

ये तस्वीर एडीजीसी कृष्ण मुरारी जौहरी की है।
ये तस्वीर एडीजीसी कृष्ण मुरारी जौहरी की है।

फावड़े से काटकर की थी किशोरी की हत्या

लोधा थाना क्षेत्र के हरिदासपुर निवासी ममता ने पुलिस को बताया था कि उसकी गांव में दुकान है। पड़ोसी दुकानदार राजू अक्सर उससे अभद्रता करता था। घटना के दिन वह उसकी दुकान पर आया और गाली गलौज और छेड़खानी करने लगा। जब उसने इसका विरोध किया तो उसने मारपीट शुरू कर दी।

राजू के साथ उसकी पत्नी, पिता और एक साथी और आ गया और लाठी डंडों से मारपीट शुरू कर दी। जब पीड़िता की 16 वर्षीय पुत्री शिखा अपनी मां को बचाने आई तो आरोपियों ने उसे भी पीटना शुरू कर दिया और उसके सिर पर फावड़े से प्रहार किया। जिससे वह जमीन पर लहुलूहान होकर गिर गई। उसे एक निजी अस्पताल ले जाया गया था, जहां से मेडिकल रेफर किया गया था। रास्ते में ही किशोरी ने दम तोड़ दिया था।

खबरें और भी हैं...