• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Aligarh
  • AMU's Outgoing Student Union Secretary Huzaifa Amir Made A Statement After The Release Of PM's Program, Said, "true Respect Should Not Be Shown Off".

राजा महेंद्र प्रताप को भारत रत्न दें पीएम : हुजैफा:एएमयू के निवर्तमान छात्रसंघ सचिव हुजैफा आमिर ने पीएम के कार्यक्रम जारी होने के बाद दिया बयान, बोले दिखावा नहीं दिया जाए सच्चा सम्मान

अलीगढ़एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
हुजैफा आमिर रशीदी - Dainik Bhaskar
हुजैफा आमिर रशीदी

राजा महेंद्र प्रताप राज्य विश्वविद्यालय का शिलान्यास करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 14 सितंबर को अलीगढ़ आएंगे। यहां वह जाट राजा महेंद्र प्रताप के नाम पर बन रही इस यूनिवर्सिटी का शिलान्यास करने के साथ ही लोगों को संबोधित भी करेंगे। ऐसे में एएमयू के निवर्तमान छात्र संघ सचिव हुजैफा आमित ने पीएम के कार्यक्रम से पूर्व अपना बयान जारी किया है और कहा है कि अगर पीएम मोदी वास्तव में राजा महेंद्र प्रताप व जाट समाज को सच्चा सम्मान देना चाहते हैं तो अपने कार्यक्रम के दौरान राजा महेंद्र प्रताप के लिए भारत रत्न की घोषणा करें। अगर वह ऐसा नहीं करते हैं तो यह सिर्फ दिखावा और वोटों की राजनीति ही कहा जाएगा।

एएमयू ने हमेशा राजा महेंद्र प्रताप को दिया सम्मान

उन्होंने कहा कि अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय ने हमेशा राजा महेंद्र प्रताप को सम्मान दिया है। किसी भी राजा या स्वतंत्रता सेनानी का सही सम्मान यह होता है कि उसको सम्मान दिया जाए उसके बारे में लोगों को पढ़ाया जाए। शिक्षण संस्थान होने के नाते एएमयू हमेशा ऐसा करता आया है। समय समय पर राजा महेंद्र प्रताप के विषय में सेमिनार होते हैं और विद्यार्थियों को उनके बारे में बताया जाता है। अब एएमयू के सिटी हाईस्कूल के नाम को राजा महेंद्र प्रताप के नाम पर रखने का प्रपोजल भी तैयार किया गया है। क्योंकि यह जमीन राजा महेंद्र प्रताप ने यूनिवर्सिटी को ली थी।

समाज को जोड़ने वाले थे राजा महेंद्र प्रताप

हुजैफा बोले कि भाजपा के लोगों ने कभी राजा महेंद्र प्रताप के बारे में पढ़ा ही नहीं है। क्योंकि राजा महेंद्र प्रताप ने हमेशा समाज को जोड़ने की बात की और कौमी एकता की बात कही। लेकिन आज लोगों को तोड़ने वाले लोग लोगों को जोड़ने वालों का नाम लेकर अपनी राजनीति कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अगर सरकार राजा महेंद्र प्रताप को भारत रत्न नहीं देती है तो इसे जाट समाज का अपमान समझा जाएगा।

खबरें और भी हैं...