पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Aligarh
  • Angered By The Closure Of Aligarh's Fellow Sugar Mill, The Farmers Blocked The Aligarh Moradabad Highway, Then Agreed On The Persuasion Of The MLC

पीएम से आने से पहले किसानों ने किया एनएच जाम:अलीगढ़ की साथा चीनी मिल बंद होने से नाराज किसानां ने अलीगढ़ मुरादाबाद हाईवे पर लगाया जाम, फिर एमएलसी के समझाने पर माने

अलीगढ़11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
चीनी मिल शुरू करने की मांग को लेकर नेशनल हाईवे पर धरने पर बैठे किसान - Dainik Bhaskar
चीनी मिल शुरू करने की मांग को लेकर नेशनल हाईवे पर धरने पर बैठे किसान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलीगढ़ आने से पहले रविवार को किसानों ने जमकर प्रदर्शन किया। लंबे समय से अलीगढ़ की साथा चीनी मिल बंद होने से नाराज किसान बड़ी संख्या में एकत्रित होकर नेशनल हाईवे पर पहुंच गए और उन्होंने अलीगढ़ मुरादाबाद हाईवे को जाम कर दिया। घटना की जानकारी मिलने पर भारी संख्या में पुलिस पहुंच गई और किसानों को छेरत चौकी के पास रोक दिया। जिसके बाद किसानों और पुलिस के बीच जमकर संघर्ष हुआ और काफी देर तक हंगामा चलता रहा। लेकिन पुलिस के लगातार समझाने के बाद भी किसान नहीं माने और सड़क पर अपने टैक्टर ट्रॉली खड़े करके धरने पर बैठ गए। जिससे आवागमन भी घंटो तक बाधित रहा।

गन्ना मंत्री से मिलने के लिए अड़े रहे किसान

सूबे के गन्ना मंत्री व जिले के प्रभारी मंत्री सुरेश राणा रविवार को पीएम के कार्यक्रम का जायजा लेने के लिए अलीगढ़ में ही मौजूद रहे। किसानों की मांग थी कि उन्हें गन्ना मंत्री से मिलना है। भारतीय किसान यूनियन ने जन प्रतिनिधियों के साथ बैठक भी बुलाई थी, लेकिन गन्ना मंत्री से उनकी मुलाकात नहीं हो सकी। इसके बाद किसान सर्किट हाउस में गन्ना मंत्री सुरेश राणा का घेराव करने के लिए रवाना होने लगे, लेकिन पुलिस ने उन्हें रोक दिया। जिसके बाद किसानों और पुलिस के बीच दुबारा जमकर संघर्ष हुआ। जिसके बाद पुलिस व प्रशासन के आलाधिकारी भी मौके पर पहुंचे और किसानों को समझाने का प्रयास किया। लेकिन किसानों ने अधिकारियों से बात करने से इनकार कर दिया और सड़क जाम करके धरने पर ही बैठे रहे।

पूर्व मंत्री के समझाने पर माने किसान, फिर मंत्री से मिले

मामले की जानकारी होने के बाद पूर्व मंत्री व एमएलसी ठा. जयवीर सिंह मौके पर पहुंचे और किसानों के साथ बातचीत शुरू की। उन्होंने किसानों को समझाया कि सरकार उनकी समस्याओं को दूर करने के लिए गंभीर है और नीतियां तैयार की जा रही हैं। जल्दी ही साथा चीनी मिल को शुरू करने के लिए भी कार्रवाई शुरू होगी। एमएलसी ने काफी देर तक किसानों से बातचीत की और उन्हें समझाया, जिसके बाद किसान मान गए और उन्होंने जाम खोलने का निर्णय लिया। इसके बाद किसानों के प्रतिनिधि मंडल ने गन्ना मंत्री सुरेश राणा से मुलाकात की और अपनी समस्याएं बताई। लगभग 40 मिनट तक किसानों और मंत्री की वार्ता चलती रही और किसानों को आश्वासन दिया गया कि जल्दी ही मिल शुरू की जाएगी और उनकी समस्याओं का निस्तारण किया जाएगा। जिसके बाद किसान माने और उन्होंने अल्टीमेटम दिया कि अगर उन्हें झूठा आश्वासन दिया गया तो वह आंदोलन के लिए बाध्य हो जाएंगे और फिर किसी भी बात नहीं सुनेंगे। उनका कहना था कि अलीगढ़ और आसपास के जिलों में गन्ना बहुतायत में होता है, इसलिए चीनी मिल को जल्दी से जल्दी शुरू किया जाना चाहिए।

खबरें और भी हैं...