राशन कार्ड का गलत लाभ लेने वालों पर होगी कार्रवाई:डीएम ने अधिकारियों को दिए निर्देश, राशन कार्डों की जांच करके अपात्रों को किया जाए बाहर

अलीगढ़7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डीएम ने अपात्रों को अपना राशन कार्ड समर्पित करने के लिए दिया एक सप्ताह का समय - Dainik Bhaskar
डीएम ने अपात्रों को अपना राशन कार्ड समर्पित करने के लिए दिया एक सप्ताह का समय

राशन कार्ड का अनुचित लाभ लेने वालों के खिलाफ अब कार्रवाई की जाएगी। अधिकारी जिले के राशन कार्ड धारकों की जांच करेंगे और जो अपात्र होंगे उनके राशन कार्ड निरस्त किए जाएंगे। इसके साथ ही उनके खिलाफ कार्रवाई भी की जाएगी। इसके लिए डीएम ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं।

जिलाधिकारी सेल्वा कुमारी जे ने बताया कि सरकार की ओर से जरूरतमंद और गरीबों को लाभ देने के लिए योजनाएं चलाई जा रही हैं। लेकिन लगातार ऐसे मामले सामने आ रहे हैं, जहां पर अपात्र योजना का लाभ ले रहे हैं। उन्होंने निर्देश दिए कि ऐसे लोग जो अपात्र हैं, वह खुद ही अपना राशन कार्ड सरेंडर कर दें। अन्यथा उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

अलीगढ़ में अभी तक 5088 कार्ड हुए हैं समर्पित

अधिकारियों ने बताया कि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना में तथ्य छिपाकर अनुचित लाभ लिए जाने के कई मामले सामने आए हैं। इसलिए अपात्रों के लिए अंतिम चेतावनी जारी की जा रही है। जो परिवार या व्यक्ति अपात्र होने के बाद भी राशन कार्ड का लाभ ले रहे हैं, वह तत्काल अपना राशन कार्ड सरेंडर कर दें।

डीएसओ ने बताया कि अभी तक जिले में महाअभियान चलाकर कुल 5088 लोगों के राशन कार्ड सरेंडर कराए जा चुके हैं। जो परिवार या व्यक्ति सरकार की खाद्य सुरक्षा योजना का अनुचित लाभ ले रहे हैं, वह खुद ही जिला पूर्ति कार्यालय में कार्ड समर्पित कर सकते हैं। अगर जांच में उसके नाम सामने आए तो फिर विधिक कार्रवाई की जाएगी।

सरकारी नौकरी या चार पहिया वाहन वाले अपात्र

अधिकारियों ने बताया कि खाद्य सुरक्षा योजना जरूरतमंद परिवारों की सहायता के लिए है। अगर किसी परिवार के सदस्य के पास सरकारी नौकरी है, वह पेंशन भोगी है या आयकर दाता है या फिर घर में चार पहिया वाहन है तो वह योजना का लाभ लेने के लिए अपात्र है।

इसके साथ ही परिवार के किसी सदस्य के स्वामित्व में ट्रैक्टर, हार्वेस्टर, एयर कंडीशनर, 5 केवीए या उससे अधिक क्षमता का जनरेटर, ग्रामीण क्षेत्र के ऐसे परिवार जिसके किसी भी सदस्य के पास अकेले या अन्य सदस्य के पास 5 एकड़ से अधिक सिंचित भूमि, नगरीय क्षेत्र के ऐसे परिवार जिसके किसी भी सदस्य के पास अकेले या अन्य सदस्य के साथ 100 वर्ग मीटर से अधिक का स्व अर्जित आवासीय प्लाट है तो वह अपात्र की श्रेणी में हैं।

अगर किसी व्यक्ति के पास स्वनिर्मित मकान अथवा 100 मीटर से अधिक कारपेट एरिया का आवासीय फ्लैट है, या ऐसे परिवार जिसके किसी भी सदस्य के स्वामित्व के साथ 80 वर्ग मीटर या उससे अधिक कारपेट एरिया का व्यवसायिक स्थान है तो वह अपात्र की श्रेणी में हैं।

ग्रामीण क्षेत्र के ऐसे परिवार जिसके सभी सदस्यों की आय 2 लाख वार्षिक है और नगरीय क्षेत्र के ऐसे परिवार जिसकी सभी स्रोतों से सालाना आय 3 लाख से अधिक है तो उन्हें अपात्र की श्रेणी में रखा गया है। इसके साथ ही जिस परिसार में एक से अधिक शास्त्र लाइसेंस हैं तो उन्हें भी राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना के तहत लाभ नहीं दिया जा सकता है।

एक सप्ताह में समर्पित करना होगा कार्ड

डीएम सेल्वा कुमारी जे ने बताया कि अपात्रों के पास सिर्फ एक सप्ताह का समय है। एक सप्ताह के भीतर उन्हें अपने नजदीक के क्षेत्रिय खाद्य कार्यालय में राशन कार्ड समर्पित कराना होगा। इसके बाद विभाग अपनी कार्रवाई शुरू करेगा।

अलीगढ़ में अब तक कुल 5088 कार्ड समर्पित हुए हैं। इसमें तहसील कोल में 701, इगलास में 810, अतरौली में 831, खैर में 380, गभाना में 705, सिविल लाइन में 1210 एवं नगर क्षेत्र में 451 अपात्र राशन कार्ड धारकों द्वारा राशन कार्ड को समर्पित किया गया है।