अलीगढ़ में शुरू हुई गेहूं की खरीद:धनीपुर मंडी में व्यवस्थाओं की जांच करने के लिए डीएम ने किया निरीक्षण, दिए सख्त निर्देश

अलीगढ़8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
धनीपुर मंडी में गेहूं खरीद केंद्रों का निरीक्षण करती जिलाधिकारी सेल्वा कुमारी जे. - Dainik Bhaskar
धनीपुर मंडी में गेहूं खरीद केंद्रों का निरीक्षण करती जिलाधिकारी सेल्वा कुमारी जे.

किसानों को उनकी फसल का उचित मूल्य मिल सके, इसके लिए अलीगढ़ के 99 केंद्रों पर शुक्रवार से गेहूं की खरीद शुरू कर दी गई। शासन के निर्देशानुसार धनीपुर मंडी समेत जिले की विभिन्न मंडियों में ऑनलाइन टोकन के माध्यम से किसानों से खरीद की जा रही है। मंडी में पहले दिन व्यवस्थाओं की जांच करने के लिए जिलाधिकारी सेल्वा कुमारी जे. ने धनीपुर मंडी का औचक निरीक्षण किया। उन्होंने धनीपुर मण्डी में पीसीएफ और खाद्य विभाग के क्रय केन्द्रों का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए और कहा कि गेहूं खरीद में किसी तरह की लापरवाही न हो। अधिकारी इस बात का ध्यान रखें कि किसानों को हर हाल में एमएसपी का लाभ मिले।

बाहरी लोगों पर नजर रखें अधिकारी

रबी विपणन वर्ष 2022-23 में न्यूनतम समर्थन मूल्य योजना के तहत 1 अप्रैल से गेंहू खरीद शुरू की गई। औचक निरीक्षण करने पहुंची डीएम ने व्यवस्थाओं का जायजा लिया। इसके साथ ही केन्द्र प्रभारियों को निर्देशित किया कि पसीना बहाकर, रातों की नीदें गंवाकर अन्न उपजाने वाले अन्नदाताओं को क्रय केन्द्रों पर किसी प्रकार की समस्या न हो। मंडियों में सिर्फ किसानों का ही गेहूं खरीदा जाए और अन्य किसी बाहरी आदमी को केंद्र में प्रवेश नहीं दिया जाए। अगर कोई बाहरी व्यक्ति अनाधिकृत रूप से मंडी में प्रवेश करता है और गड़बड़ी करने की कोशिश करता है तो उसके खिलाफ तत्काल कानूनी कार्रवाई भी की जाए।

किसानों को कराना होगा अपना पंजीकरण

गेहूं खरीद के पहले दिन केंद्रों पर छन्नी, कांटा, वारदाना, नमी मापक यंत्र जैसी व्यवस्थाएं दुरुस्त दिखी। एडीएम विधान जायसवाल ने बताया कि जनपद में 99 सरकारी क्रय केन्द्रों के माध्यम से गेहूं खरीद की व्यवस्था की गयी है। न्यूनतम समर्थन मूल्य 2015 रूपये प्रति कुंतल के हिसाब से किसानों को राशि दी जाएगी। उन्होंने बताया कि गेंहू क्रय केंद्रो पर गेंहू विक्रय करने और न्यूनतम समर्थन मूल्य योजना का लाभ लेने के लिये किसानों को खाद्य एवं रसद बिभाग की वेवसाइट पर अपना पंजीकरण कराना होगा। अगर पहले से पंजीकरण है तो उन्हें इसका नवीनीकरण करना होगा। किसान ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन खुद ही कर सकते हैं या जन सुविधा केंद्र या साइबर कैफे के माध्यम से इस प्रक्रिया को पूरा कर सकते हैं। पंजीकरण 16 मार्च से लगातार जारी है। पंजीकरण के बाद किसानों को अनिवार्य रूप से एमएसपी का लाभ मिलेगा। डीएम के निरीक्षण के दौरान डिप्टी आरएमओ राजीव कुलश्रेष्ठ, एआर कॉपरेटिव कृष्ण कुमार, केन्द्र प्रभारी ललित कुमार उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...