हाथी का दामन छोड़ अब ‘कमल’ खिलाएंगे बालियान:2019 में अलीगढ़ में बसपा से अजीत बालियान ने लड़ा था लोकसभा का चुनाव, लखनऊ में प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने दिलाई सदस्यता

अलीगढ़एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अजीत बालियान को बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने दिलाई पार्टी की सदस्यता। - Dainik Bhaskar
अजीत बालियान को बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने दिलाई पार्टी की सदस्यता।

अलीगढ़ से 2019 में बसपा की टिकट से लोकसभा चुनाव लड़ने वाले वरिष्ठ नेता अजीत बालियान ने सोमवार को बसपा का दामन छोड़ भाजपा ज्वाइन कर ली। लखनऊ में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने उन्हें पार्टी की सदस्यता दिलाई। उन्हें भाजपा में शामिल करने के पीछे सांसद सतीश गौतम की अहम भूमिका बताई जा रही है। वहीं, लखनऊ में अजीत को सदस्यता दिलाए जाने के दौरान अलीगढ़ के खैर विधानसभा क्षेत्र के अनूप प्रधान व जिला पंचायत सदस्य लाला प्रधान मौजूद रहे।

विधानसभा चुनाव से पहले जाट वोट बैंक पर नजर

अजीत बालियान जाट समाज का नेतृत्व करते हैं, जिससे यह माना जा रहा है कि भाजपा 2022 के विधानसभा चुनावों से पहले जाट समाज को साधने में जुटी हुई है। इसके चलते सोमवार को बसपा से जुड़े रहे जाट चेहरे अजीत बालियान को भाजपा में शामिल किया है। वहीं, अजित ने कहा कि वह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की नीतियों से काफी प्रभावित हैं, इसलिए वह भाजपा में शामिल हुए हैं।

बसपा जिलाध्यक्ष बोले- बिना हैसियत के नेता थे अजीत

अजीत बालियान के भाजपा में शामिल होने के बाद बसपा जिलाध्यक्ष रतनदीप सिंह ने बयान जारी करते हुए कहा कि वह पार्टी में बिना राजनैतिक हैसियत के नेता थे। उनके जाने से पार्टी को कोई फर्क नहीं पड़ा है। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव में उन्हें सिर्फ पार्टी के परंपरागत वोट ही मिले थे और उनके जाट समाज ने ही उन्हें नकार दिया था। इसलिए पार्टी को उनके जाने से किसी तरह का कोई नुकसान नहीं हुआ है।

खबरें और भी हैं...