• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Aligarh
  • In The Case Of Purse Theft, The Complainant Had Accused Him Of Pressurizing Him To Withdraw The Case, Yashpal Singh Found Innocent In The Investigation

अलीगढ़ में 6 माह बाद GRP इंस्पेक्टर बहाल:पर्स चोरी के मामले में शिकायकर्ता ने केस वापस लेने का दबाव बनाने का लगाया था आरोप, जांच में निर्दोष मिले यशपाल सिंह

अलीगढ़4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अलीगढ़ जीआरपी में रहते हुए इंस्पेक्टर यशपाल सिंह का 3 साल का कार्यकाल पूरा हो चुका है। - Dainik Bhaskar
अलीगढ़ जीआरपी में रहते हुए इंस्पेक्टर यशपाल सिंह का 3 साल का कार्यकाल पूरा हो चुका है।

पिछले छह महीने से निलंबित चल रहे अलीगढ़ के जीआरपी थाना प्रभारी अब बहाल किए जाएंगे। उनके खिलाफ चल रही जांच में वह निर्दोष पाए गए हैं, जिसके बाद डीआईजी रेलवे धर्मेंद्र सिंह ने उनकी बहाली के आदेश जारी कर दिए हैं। उन पर काम मे लापरवाही और पीड़ित पर दबाव बनाने के आरोप लगे थे, जिसके बाद उन पर कार्रवाई की गई थी। एसपी जीआरपी मोहम्मद मुस्ताक ने बताया कि 12 मार्च को प्रयागराज एक्सप्रेस में चोरी की घटना हुई थी। इसमें पीड़ित गाज़ियाबाद निवासी अंकिता ने मुकदमा दर्ज कराया था। पीड़ित ने पुलिस को बताया था कि पर्स में उससे कीमती जेवर रखे हुए थे। इस घटना के बाद पीड़ित के पति अविनाश ने जीआरपी पर आरोप लगाए थे कि अधिकारी उन पर मुकदमा वापस लेने का दबाव बना रहे हैं।

इसकी शिकायत एडीजी जीआरपी से की गई थी जिसके बाद मुख्यालय के निर्देश पर आईजी जीआरपी सत्येंद्र कुमार ने इंस्पेक्टर को निलंबित कर दिया था। इसके साथ ही उनके खिलाफ जांच शुरू हो गई थी। लगभग 6 महीने चली है जांच में इंस्पेक्टर यशपाल सिंह को निर्दोष पाया गया है, जिसके बाद मुख्यालय ने उनकी बहाली के आदेश जारी कर दिए है।

प्रयागराज जोन में ज्वाइन करेंगे इंस्पेक्टर
अलीगढ़ जीआरपी में रहते हुए इंस्पेक्टर यशपाल सिंह का 3 साल का कार्यकाल पूरा हो चुका है। जिसके बाद अब उन्हें सिविल पुलिस में नियुक्ति दी गई है। बहाली के बाद इंस्पेक्टर को प्रयागराज जोन में भेजा गया है। एसपी ने बताया कि इंस्पेक्टर की बहाली के आदेश होने के बाद उन्हें प्रयागराज जोन में रिपोर्ट करने के निर्देश दिए गए है।

खबरें और भी हैं...