डीजे के साथ अधिकारियों ने किया जेल का निरीक्षण:जेल में व्यवस्थाएं देखने के लिए अचानक पहुंचे जिला न्यायधीश

अलीगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जिला जज के साथ डीएम और एसएसपी ने किया भी जेल का औचक निरीक्षण - Dainik Bhaskar
जिला जज के साथ डीएम और एसएसपी ने किया भी जेल का औचक निरीक्षण

अलीगढ़ में जेल में बंद कैदियों की समस्याओं को जानने और विभिन्न व्यवस्थाओं का जायजा लेने के लिए जिला न्यायधीश ने मंगलवार को जिला कारागार का औचक निरीक्षण किया। जिला जज डॉ बब्बू सारंग के साथ डीएम व एसएसपी भी मौजूद थे।

जिले के तीनों बड़े अधिकारी जब अचानक जेल पहुंचे तो वहां अफरा तफरी मच गई। अधिकारियों ने पहुंचते ही पहले साफ सफाई का जायजा लिया और इसके बाद फिर खाने पीने की व्यवस्थाएं जांची। इस दौरान जेलर बीपी सिंह ने अधिकारियों को जेल की विभिन्न चीजों के बारे में अवगत कराया।

बीमार कैदियों को दिया जाएगा बेहतर इलाज

जिला जल डॉ बब्बू सारंग, डीएम इंद्र विक्रम सिंह और एसएसपी कलानिधि नैथानी ने जेल में साफ-सफाई, टेलीफोन, सीसीटीवी कैमरे, पेयजल, शौचालय और खानपान व्यवस्थाएं देखी। इसके साथ ही उन्होंने स्वास्थ्य, सुरक्षा व्यवस्था, बैरक का रखरखाव भी देखा।

कैदियों ने उन्हें बताया कि समय समय पर उन्हें टेलीफोन द्वारा परिवारीजनों से बात कराई जा रही है। डीएम ने जेल डॉक्टर व मेडिकल टीम से कैदियों के बारे में जानकारी ली और बीमार कैदियों को बेहतर इलाज देने को कहा। उन्होंने कहा कि अगर जेल के अंदर किसी बीमारी के इलाज में परेशानी आ रही तो बाहर से इलाज की बेहतर व्यवस्था की जाएगी।

जरूरममंद कैदियों को मिलेगी फ्री विधिक सेवा

जिला जज डॉ बब्बू सारंग ने कहा कि जेल में कुछ कैदी ऐसे भी है जिन्हें विधिक सहायता की आवश्यकता है। जिसके बाद डीएम-एसएसपी ने उन्हें आश्वस्त किया कि जिन कैदियों को जरूरत है, उन्हें फ्री कानूनी सहायता दिलाई जाएगी।उन्होंने बताया कि कुछ कैदी ऐसे भी हैं जिन्होंने अपना जुर्म स्वयं कबूल कर कानून की मदद की है और कुछ अच्छे व्यवहार वाले कैदी भी हैं। इन कैदियों को न्यायिक तौर-तरीके से जो भी मदद सम्भव है प्रदान की जाएगी।

डीएम ने बताया कि आजाद फाउंडेशन कारागार में स्वरोजगार स्थापना की दिशा में कार्य कर रही है। संस्था द्वारा महिला बंदियों को कढ़ाई-बुनाई के साथ ही अन्य रोजगार परक कार्य सिखाए जा रहे हैं। जिससे जेल से रिहाई होने के बाद महिला बन्दी स्वरोजगार की स्थापना कर अपना जीवन-यापन कर सकेंगी।

खबरें और भी हैं...