गर्भवती महिलाओं को मुफ्त इलाज की व्यवस्था:अलीगढ़ के अजमल खान तिब्बिया कॉलेज में टीकाकरण व फीवर क्लीनिक खुली

अलीगढ़8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
तिब्बिया कालेज में खुले फीवर क्लीनिक में मौजूद अधिकारी - Dainik Bhaskar
तिब्बिया कालेज में खुले फीवर क्लीनिक में मौजूद अधिकारी

अलीगढ़ में अब गर्भवती महिलाओं को मुफ्त इलाज मिलेगा। स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से अजमल खान तिब्बिया कॉलेज हॉस्पिटल में वैक्सीनेशन सेंटर व फीवर क्लीनिक की शुरूआत की गई है। इसमें ओपीडी के जरिए गर्भवती महिलाओं और बच्चों का उपचार किया जायेगा। वैक्सीनेशन के जरिए बच्चों को टीके भी लगाए जाएंगे। इसके साथ यहां आने वाले मरीजों पर लगातार निगरानी रखी जाएगी। जिससे कि उन्हें भविष्य में भी किसी तरह की परेशानी न हो।

बच्चों की पांच साल तक होगी निगरानी

जिले के कोविड सैंपलिंग प्रभारी/जिला मलेरिया अधिकारी डॉ राहुल कुलश्रेष्ठ ने बताया कि अब नौनिहाल बच्चों का नियमित टीकाकरण किया जाएगा। इसके साथ ही पांच साल तक उनकी निगरानी भी की जाएगी। जिससे की उन्हें गंभीर बीमारियों से बचाया जा सके। उन्होंने कहा कि गंभीर बीमारी से बचाव के लिए हर बुधवार को नियमित टीकाकरण किया जायेगा। यूनानी दवाओं के जरिए सर्दी, जुकाम व बुखार से पीड़ित तथा कोरोना से संक्रमित व्यक्तियों को भी फ्री में इलाज दिया जाएगा।

बुखार के मरीज किए जाएंगे चिन्हित

महामारी रोग विशेषज्ञ डॉ शोएब अंसारी ने बताया कि फीवर क्लीनिक में बुखार के मरीजों को चिन्हित करके उनका इलाज किया जाएगा। इसके साथ उनकी सैंपलिंग भी की जाएगी, जिससे कोरोना महामारी से उनका बचाव किया जा सके। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से अलड फीवर वेस्ट की स्थापना की गई है। यहां पर फीवर के रोगियों को चिह्नित किया जायेगा और मरीज़ों को निःशुल्क दवाएं उपलब्ध कराई जाएगी। उसकी सैंपलिंग कराकर सही समय पर आरटीपीसीआर व एंटीजन जांच कराई जा सकें। कार्यक्रम के दौरान तिब्बिया कॉलेज के डीन प्रो. एफएस शिरानी, प्रो. बीडी खान, प्रो. तबस्सुम लताफत, प्रो. अब्दुल अज़ीज़ खान, प्रो. अम्मार इनवे अनवर, प्रो. रूबी अंजुम एवं डॉ. महोम्मद अनस समेत विभिन्न लोग मौजूद रहे।

मरीजों को दी जाएंगी यह दवाइयां

क्लीनिक में आने वाले मरीजों का कुर्से काफूर दो ऐड (गोली), बाद आवरद, कासनी, बर्ग गाऊ जुवान, अफसंतीन, असल असूस मुकशर, तुखमेकता, अव्वल नज़रंद अकबेआ, नुस्खा हुम्मा -ए -वबाई (काढ़ा) जैसी विभिन्न दवाइयों के जरिए आने वाले मरीजों का इलाज किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...