• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Prayagraj
  • New Chairman Sanjay Srinet Took Over The Charge Of UPPSC. Sanjay Srinet, A 1993 Batch IRS Officer Who Arrived At The Commission A Month After His Appointment; The Biggest Challenge Is To Get The Examinations On Time.

UPPSC के नए चेयरमैन ने संभाला कामकाज:नियुक्ति के एक महीने बाद आयोग पहुंचे 1993 बैच के IRS अफसर संजय श्रीनेत; परीक्षाओं को तय समय पर कराना सबसे बड़ी चुनौती

प्रयागराज8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (UPPSC) के नए चेयरमैन संजय श्रीनेत ने मंगलवार को अपना कामकाज संभाल लिया। उन्होंने प्रभात कुमार की जगह पदभार ग्रहण किया। श्रीनेत को राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने 18 अप्रैल को इस पद के लिए नियुक्त किया था। संजय 1993 बैच के IRS ऑफिसर रहे हैं। इसके पहले वह प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) में नॉर्दन रीजन के स्पेशल डायरेक्टर भी रहे हैं।

नए चेयरमैन के 4 बड़े वादे

  • आयोग की प्रमाणिकता और विश्वसनीयता बरकरार रखना प्रथम दायित्व है।
  • कोरोना महामारी के दौर में टलीं परीक्षाओं को समय से कराना हमारी प्रथम प्राथमिकता में है।
  • प्रदेश को दक्ष, समावेशी और संवेदनशील प्रशासन उपलब्ध कराने के लिए काम करेंगे।
  • आयोग में नए इनोवेशन और टेक्नोलॉजी का प्रयोग करेंगे।

प्रतियोगी परीक्षाओं का शेड्यूल सुधारना सबसे बड़ी चुनौती

श्रीनेत के सामने उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग की तरफ से होने वाली प्रतियोगी परीक्षाओं का शेड्यूल सुधारना सबसे बड़ी चुनौती होगी। अभी हर परीक्षा का शेड्यूल 6 माह से दो साल तक लेट चल रहा है। कोरोना के चलते इस बार भी पीसीएस की परीक्षा टाल दी गई है।

इविवि और जेएनयू से की पढ़ाई

  • संजय श्रीनेत ने अपनी शुरुआती पढ़ाई लखनऊ के काल्विन तालुकेदार कॉलेज से की है।
  • इसके बाद इलाहाबाद विश्वविद्यालय और जेएनयू से पढ़ाई की है।
  • उन्होंने प्रतिष्ठित नेशनल डिफेंस कॉलेज (एनडीसी) से एमफिल किया है।
  • IRS में चयनित होने के बाद वह 2005 से 2009 तक प्रथम सचिव भारतीय उच्चायोग लंदन में कार्यरत थे।
  • 2009 से 2014 तक डायरेक्टरेट ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस राजस्थान के प्रभारी रहे और 2015 से 2020 तक ED नॉर्दन रीजन के स्पेशल डायरेक्टर रहे।
  • उन्हें राष्ट्रपति ने उत्कृष्ट सेवाओं के लिए 2010 में रिपब्लिक डे परेड में सम्मानित किया था।
  • उन्हें केंद्र सरकार के लिए अत्यधिक राजस्व संग्रह करने पर 1998 में सम्मान पत्र भी दिया गया था।
खबरें और भी हैं...