पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोनावायरस:मुसाफिर खाने की मस्जिद में छिपे 7 इंडोनेशियाई नागरिकों समेत 9 गिरफ्तार, ,37 लोगों को क्वरैंटाइन किया गया

प्रयागराजएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
प्रयागराज में मिले जमातियों को क्वरैंटाइन किया गया - Dainik Bhaskar
प्रयागराज में मिले जमातियों को क्वरैंटाइन किया गया
  • मुसाफिरखाने के व्यवस्थापक समेत 10 लोगों पर एफआईआर दर्ज करायी गई, देर रात पुलिस हुई सक्रिय
  • पूछताछ में पता चला कि पकड़े गए सभी लोग दिल्ली स्थित निजामुद्दीन की तबलीगी जमात में शामिल हुए थे

उत्तर प्रदेश की संगमनगरी प्रयागराज के पुराने शहर के शाहगंज थाना अंतर्गत अब्दुल्ला मस्जिद के पास स्थित मुसाफिर खाने में छिपे सात इंडोनेशियाई नागरिकों समेत नौ लोगों को पुलिस ने मंगलवार देर रात पकड़ लिया। पूछताछ में पता चला कि पकड़े गए सभी लोग दिल्ली स्थित निजामुद्दीन की तबलीगी जमात में शामिल हुए थे। जिनके कोरोना वायरस संक्रमित होने की आशंका है। आनन-फानन में वरिष्ठ अधिकारियों समेत भारी संख्या में फोर्स मौके पर पहुंच गई और मुसाफिर खाने में रह रहे कुल 37 लोगों को क्वरैंटाइन कर दिया गया।  इसमें मुसाफिर खाने के व्यवस्थापक मस्जिद के मुतवल्ली समेत 10 लोगों के खिलाफ शाहगंज थाने में एफआईआर दर्ज की गई है। 36 लोगों में सिर्फ आठ लोगों के ही रुकने की झूठी जानकारी देने वाले मुतवल्ली पर एफआईआर दर्ज कराई गई है। दिल्ली के निजामुद्दीन में हुए तब्लीगी मरकज में शामिल लोगों में आठ लोग प्रयागराज के भी हैं। यह जानकारी मिलने के बाद मंगलवार को पुलिस अन्य संदिग्धो की भी खोजबीन में लगीं थी।  इसी दौरान पता चला कि पुराने शहर के शाहगंज थानान्तर्गत काटजू रोड स्थित अब्दुल्ला मस्जिद व मुसाफिरखाना में कुछ लोग रुके हुए हैं। देर रात करीब 9.30 बजे जिलाधिकारी भानुचंद्र गोस्वामी, एसपी सिटी बृजेश श्रीवास्तव फोर्स और स्वास्थ्य विभाग की टीम के साथ वहां पहुंचे। पुलिस के अनुसार मस्जिद के मुतवल्ली ने सिर्फ आठ लोगों के रुकने की सूचना दी थी, लेकिन जब तलाशी ली गई तो चार महिलाएं व बच्चों समेत कुल 36 लोग मिले। आनन-फानन सभी को एंबुलेंस से क्वारंटाइन के लिए भेज दिया गया।

मस्जिद में छिपे थे 7 इंडोनेशियाई नागरिक
एसपी सिटी बृजेश श्रीवास्तव के अनुसार मस्जिद में मिले नौ लोगों में सात इंडोनेशिया और एक केरल तथा एक कोलकाता के रहने वाले हैं। यह सभी 11 व 12 मार्च को दिल्ली में हुए तब्लीगी मरकज में शामिल हुए थे।  ट्रेन से सभी लोग जनता कर्फ्यू वाले दिन यानि 22 मार्च को प्रयागराज आए और मस्जिद में रुके। मस्जिद के मुतवल्ली ने पुलिस व प्रशासन को इनकी जानकारी नहीं दी, इसलिए मुतवल्ली व जमात के लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। मुतवल्ली वसीम को भी क्वारंटाइन में रखा गया है। शेष लोग प्रयागराज व आसपास के जिलों के हैं।
डीएम भानुचंद्र गोस्वामी ने बताया कि मुसाफिर खाने और मस्जिद में जो लोग भी मिले हैं, सभी लोगों को इंस्टीट्यूशनल क्वरैंनटाइन कर विशेष चिकित्सकीय दल के आब्जर्वेशन में रखा गया है। इनके संपर्क में 28 स्थानीय लोग आए हैं। उन्हें भी क्वारंटाइन किया कियाग या है।