150 रुपए में साल भर बच्चों को पढ़ाते हैं कोचिंग:अंबेडकरनगर में नवयुवक जगा रहे शिक्षा की अलख, लॉकडाउन में 3 दोस्तों ने शुरू किया था यह सफर

अंबेडकरनगर7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
150 रुपए में साल भर बच्चों को पढ़ाते हैं कोचिंग। - Dainik Bhaskar
150 रुपए में साल भर बच्चों को पढ़ाते हैं कोचिंग।

‘कौन कहता है आसमां में सुराख हो नहीं सकता, एक पत्थर तो तबियत से उछालो यारो’। इस शेर को वास्तविक जिंदगी में चरितार्थ करने के प्रयास में लगे कुछ युवा नौजवानों की टोली शिक्षा की अलख जगा रही है। शिक्षा के क्षेत्र में गरीब और मध्यम तबके के बच्चों की मदद के लिए नौजवानों ने बीड़ा उठाया है। कुछ कर गुजरने का जज्बा लिए स्वयं पढ़ाई कर रहे युवा अब्दुल मुत्तलिब ने वर्ष 2019 में अपने दो साथियों मोहम्मद रेहान और मोहम्मद अकदस के साथ मोहल्ले के 3 दर्जन छात्रों के साथ बच्चों को निःशुल्क पढ़ाने की शुरुआत की।

कोरोना वायरस की पहली लहर बनी वजह

कोरोना वायरस लॉकडाउन के दौरान इधर-उधर घूम रहे बच्चों की शैक्षिक स्तर की दयनीय हालत को देखते हुए एक संस्था के माध्यम से पढ़ाई करने के विचार ने युवाओं के दिमाग में जगह बनाई। जो बाद में दिसंबर 2020 में जाकर हिंद एजुकेशनल ट्रस्ट नाम की संस्था के गठन के साथ हकीकत में बदल गई। ट्रस्ट के गठन के साथ ही संस्थागत रूप से 14 दिसंबर को हाईस्कूल के विद्यार्थियों की निशुल्क कोचिंग की शुरुआत की गई।

शुरुआत में हुई समस्याएं, लेकिन घर-घर जाकर जगाई अलख

शुरुआत में घर-घर जाकर बच्चों को इकट्ठा करने में समस्याएं आईं। अभिभावक बच्चों को भेजने को राजी नहीं थे। इसके साथ तमाम लोगों द्वारा मुफ्त में पढ़ाने की सोच पर सवाल उठाए गए। यहां तक कि लोग मजाक भी बनाते थे। अब्दुल मुत्तलिब ने बताते हैं कि वह संघर्ष के दिन थे, लेकिन अब दोस्तों के साथ और लोगों में विश्वसनीयता के चलते 36 बच्चों से शुरू किया गया सफर समय के साथ साथ बढ़कर 1 सैकड़ा से अधिक बच्चों के कारवां में तब्दील हो गया।

10वीं और 12वीं के बच्चे निशुल्क कोचिंग का लाभ रहे लाभ

जलालपुर के विभिन्न मोहल्ले और विद्यालयों के बच्चे हिंदू के एजुकेशनल ट्रस्ट द्वारा संचालित निशुल्क कोचिंग का लाभ उठा रहे हैं। यहां पढ़ने वाली प्रियल तिवारी, अरूबा फात्मा, उज्मा आफरीन, शिवम यादव आदि ने बताया कि कोचिंग में सिर्फ एक बार 150 रुपए का शुल्क रजिस्ट्रेशन के लिए लिया जाता है। इसके बाद हाईस्कूल और इंटर की वर्ष भर मुफ्त कोचिंग और टेस्ट की व्यवस्था बच्चों को सुलभ कराई जाती है।

खबरें और भी हैं...