अमेठी रेलवे स्टेशन का टीनशेड बना झरना:बारिश ने सौंदर्यीकरण की खोली पोल, यात्रियों ने लगाया भ्रष्टाचार का आरोप

अमेठी तहसील3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अमेठी रेलवे स्टेशन पर बारिश के समय में झरना बनता दिखाई दे रहा है। इस बरसात के पानी ने रेलवे के सौंदर्यीकरण की पोल खोल कर रख दी है। दो साल के भीतर ही प्लेट फार्म नंबर एक पर बना शेड बरसात का पानी रोकने में नाकाम दिखाई साबित हुआ है। बारिश शुरू होते ही झरने की तरह पानी झरने लगते है। यात्रियों ने भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग की है।

केंद्रीय मंत्री स्मृति के संसदीय क्षेत्र अमेठी में दो वर्ष पूर्व ही अमेठी रेलवे स्टेशन का करोड़ों रुपए खर्च कर सौंदर्यीकरण हुआ था। अब हालत यह है कि बारिश के समय में यात्रियों को सिर ढकने की जगह नहीं मिल रही है। तस्वीरों में साफ दिखाई दे रहा प्लेट फार्म नंबर एक पर पानी ही पानी है शेड जगह जगह से टूट गया है।

यात्रियों न बताई अपनी आपबीती
यात्रियों न बताई अपनी आपबीती

बैठने वाली बेंच पर गिर रहा पानी

जिसके कारण पानी सीधे अंदर आ रहा है। यात्रियों के बैठने वाली बेंच पर पानी गिरते हुए साफ दिखाई दे रहा है। समस्या को लेकर यात्रियों में खासा आक्रोश दिखाई दिया। यात्रियों ने समस्या का निराकरण किए जाने की मांग की है।

यात्रियों ने सुनाई आपबीती

यात्री प्रेम शंकर ने बताया कि जो जोड़ लगे है वहां से पानी बह रहा है। बेंच पर पानी गिर रहा है। इस जोड़ को ठीक तरीके से नही बनाया गया है। जिसके चलते पानी बह रहा है।बैठने की जगह नहीं है। वहीं यात्री आनंद शुक्ला ने बताया की हर काम में लापरवाही होती है। घुस खोरी के चलते कार्य सही नहीं हुआ। उन्होंने समस्या का निराकरण किए जाने की मांग की है।

लोगों को बैठने में हो रही परेशानी

यात्री सुखलाल ने बताया की हम ट्रेन पकड़ने आए हैं। यहां पानी की वजह से बैठने की व्यवस्था नहीं है। प्रशांत ने बताया की इस समय बारिश हो रही है। बारिश का पानी स्टेशन के अंदर आ रहा है। इससे हम लोगों को बहुत परेशानी हो रही है।

स्टेशन अधीक्षक बोले- पत्र लिख दिया है

यात्री सुशीला ने बताया की स्टेशन की हालत बहुत खराब है। पानी में गिरने का डर बना हुआ है। इसको ठीक कराया जाना चाहिए। पूरे मामले में जब स्टेशन अधीक्षक से बात किया गया तो उन्होंने बताया की कई बार उच्चाधिकारियों को पत्र लिखा गया। इसके अतरिक्त मैं कुछ नहीं कर सकता है। सबका अलग अलग कार्य है। हमने अपने स्तर से जो करना था कर दिया है।

खबरें और भी हैं...