• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Amethi
  • Amethi Police Released The Accused Of Accident From The Police Station: Angry Relatives Demonstrated By Placing Dead Bodies On The Road, CO Pacified

अमेठी पुलिस ने एक्सीडेंट के आरोपी को थाने से छोड़ा:गुस्साए परिजनों ने सड़क पर शव रखकर किया प्रदर्शन, सीओ ने शांत कराया

अमेठीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
परिवार वालों ने सड़क पर शव रखकर प्रदर्शन किया। - Dainik Bhaskar
परिवार वालों ने सड़क पर शव रखकर प्रदर्शन किया।

अमेठी में बाजार शुकुल क्षेत्र के दारानगर में सोमवार को दुर्घटना में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी। मृत व्यक्ति के परिजनों ने आरोप लगाया है कि पुलिस ने मामले को मैनेज कर आरोपी ड्राइवर को छोड़ दिया है। पुलिस की इस हरकत से नाराज परिजनों ने ग्रामीणो के साथ मिलकर शव को सड़क पर रखकर प्रदर्शन शुरु कर दिया।

मौके पर पहुंचे क्षेत्राधिकारी मनोज कुमार ने परिजनों को आश्वासन दिया कि उचित कार्यवाही की जाएगी और शव को सड़क से हटवाया। आश्वासन के बाद नाराज़ परिजन अंत्येष्टि के लिए तैयार हो धरना प्रदर्शन समाप्त कर दिया।

अनियंत्रित कार ने मारी टक्कर

बाजार शुकुल थाना क्षेत्र के दारानगर चौराहे के पास गुजरात नंबर की एक कार सोमवार को अनियंत्रित होकर सड़क किनारे स्थित एक दुकान में जा घुसी। वहां बैठे निसार अहमद निवासी पूरे हुजब्बर, मलक बेग निवासी दारानगर व होटल मालिक इसरार अहमद निवासी नेवाज मदारगढ़ को रौंदती हुई एक खड्ड में जा गिरी। कार की चपेट में आये निसार अहमद की तीन घंटे बाद इलाज के दौरान मौत हो गई थी। वहीं मलक बेग की हालत नाजुक बनी हुई थी।

क्षेत्राधिकारी मनोज कुमार ने परिजनों को आश्वासन दिया कि उचित कार्यवाही की जाएगी और शव को सड़क से हटवाया।
क्षेत्राधिकारी मनोज कुमार ने परिजनों को आश्वासन दिया कि उचित कार्यवाही की जाएगी और शव को सड़क से हटवाया।

इलाज के दौरान गई जान

दुर्घटना उस समय हुई जब पूरे गनेशी निवासी साकिब खान अपनी कार से कहीं जा रहा था। वह दारानगर चौराहे पर पहुंच ही था कि अचानक कार अनियंत्रित हो गई। नियंत्रण खो चुकी कार दुकान में घुस गई। वहां चाय पी रहे लोगों को रौंदती हुई सड़क किनारे खड्ड में जा गिरी। चालक को भी चोटें आई हैं। यह नजारा देख वहां मौजूद लोग मदद के लिए दौड़े और एम्बुलेंस बुलाई। चोटिलों को सीएचसी बाजारशुकुल लाया गया। चिकित्सक ने प्रथम उपचार के बाद निसार व मलक बेग की हालत नाजुक देख जिला अस्पताल रेफर कर दिया।

पुलिस ने वाहन को कब्जे में लिया

अन्य दो चोटिलों को इलाज बाद घर भेज दिया गया। निसार को परिवारजन जगदीशपुर के एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया। जहां तीन घंटे बाद इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। मौत की खबर से पूरा गांव मातम में डूब गया। परिवार वालों का रो रो कर बुरा हाल है। मलक बेग का अभी भी इलाज चल रहा है और हालत नाजुक बनी हुई है। थानाध्यक्ष निर्मल सिंह ने बताया कि दुर्घटनाग्रस्त वाहन को कब्जे में ले लिया गया था।