पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लखनऊ पहुंचा शहीद दिनेश का शव:बीएसएफ के अधिकारी और भाई पार्थिव शरीर लेकर अमेठी रवाना, कल होगा शहीद का अंतिम संस्कार

11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
लखनऊ पहुंचा शहीद दिनेश का शव - Dainik Bhaskar
लखनऊ पहुंचा शहीद दिनेश का शव

जम्मू में शहीद हुए अमेठी जिले के रहने वाले बीएसएफ जवान दिनेश कसौधन का पार्थिव शरीर बुधवार देर शाम लखनऊ से उनके पैतृक गांव के लिए रवाना हो गया है। सेना के अधिकारियों और जवानों के साथ शहीद का भाई पार्थिव शरीर को लेकर रवाना हुए हैं। सीओ अमेठी अर्पित कपूर के अनुसार गुरुवार सुबह शहीद के घर से पीछे ठीक 100 मीटर की दूरी पर उनकी अंत्येष्टि की जाएगी।

इलेक्ट्रिक शॉक लगने से हुई मौत

सोमवार को श्रीनगर के कुपवाड़ा में हवलदार दिनेश कसौधन ड्यूटी के समय इलेक्ट्रिक शॉक लगने से घायल हुए थे। शॉक लगते ही दिनेश लाइट बंद करो, लाइट बंद करो चिल्लाने लगे। आवाज सुनकर अन्य जवान लाइट बंद करने के लिए गए, लेकिन तब तक करंट ने उन्हें खींच लिया था और वो दीवार से लटके हुए थे। उन्हें शर्ट पकड़कर नीचे उतारा गया। जवान दिनेश को अचेत अवस्था में तुरंत यूनिट एमआई रूम ले जाया गया और प्राथमिक उपचार के बाद तुरंत सिविल अस्पताल तंगधार ले जाया गया। सिविल अस्पताल में डॉक्टर ने उन्हें मृत घोषित कर दिया था।

11 वर्ष पूर्व बीएसएफ में हुए थे भर्ती

बुधवार को उनका पार्थिव शरीर पैतृक गांव पहुंचना था, लेकिन मौसम की खराबी से आने में समस्या आ गई। इस बीच बेटे के आखरी दीदार के लिए मां शारदा देवी की आंखें पथरा गईं। बता दें कि शहीद जवान पीपरपुर के ग्राम पंचायत दुर्गापुर के निवासी थे। 11 वर्ष पूर्व वो बीएसएफ में जीडी सिपाही में भर्ती हुए थे। उनकी ट्रेनिग राजस्थान में हुई। ट्रेनिग के बाद पहली पोस्टिग राजस्थान में हुई। वहां दो वर्ष बीतने के बाद उनका स्थानांतरण कोलकाता हो गया, जहां एक वर्ष के बाद श्रीनगर के लिए स्थानान्तरण हुआ।

शहीद दिनेश रक्षाबंधन पर आए थे घर

वर्ष 2013 में रायबरेली के बछरावां में उनकी शादी हुई थी। पत्नी महिला हेल्प डेस्क 1090 पर हेड ऑफिस लखनऊ में कार्यरत हैं। शहीद दिनेश अपने पीछे दो बच्चे बेटी परि (7) और बेटा आदी कसौधन (4) को छोड़ कर गए हैं। आखरी बार वो इस रक्षाबंधन पर छुट्टियों पर आए थे और 1 सितंबर को ड्यूटी पर वापस गए थे। बता दें कि शहीद के पिता अजय कुमार का 2018 में निधन हो गया था।

खबरें और भी हैं...