अमेठी में गो आश्रय स्थल में नहीं पहुंचा भूसा:DM ने ADO पंचायत व ग्राम प्रधान पर FIR के दिए निर्देश, मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी समेत 7 को नोटिस

अमेठी11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

अमेठी के डीएम राकेश कुमार मिश्र शनिवार को आक्रामक मुद्रा में दिखे। गो आश्रय स्थल में मौजूद गोवंशों के सापेक्ष पर्याप्त मात्रा में भूसे की उपलब्धता ना होने पर उन्होंने बड़ी कार्रवाई की। डीएम के निर्देश पर एडीओ पंचायत व प्रधान पर एफआईआर दर्ज कराई गई है।

संग्रामपुर ब्लॉक से जुड़ा है मामला

बताते चलें कि शासन द्वारा गो आश्रय स्थलों पर गोवंशों के लिए पर्याप्त मात्रा में चारा, भूसा, पानी, छांव, इत्यादि सुविधाएं उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए हैं। जिसको लेकर डीएम द्वारा भी लगातार संबंधित अधिकारियों के साथ समीक्षा कर गो आश्रय स्थलों पर गोवंशों के लिए आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध कराने के निर्देश दिए जा रहे हैं। उनके द्वारा नोडल अधिकारियों की नियुक्ति कर जनपद के सभी गो आश्रय स्थलों का निरीक्षण कर वहां पर पर्याप्त मात्रा में भूसा-चारा, पानी की व्यवस्था, टीनशेड व पशुओं के स्वास्थ्य इत्यादि सुविधाओं का निरीक्षण करने के निर्देश दिए गए हैं।

24 पशुओं के हिसाब से काफी कम मात्रा में था भूसा

जिसके क्रम में विकासखंड संग्रामपुर की ग्राम पंचायत चंडेरिया के गो आश्रय स्थल का नोडल अधिकारी नरेंद्र कुमार पांडे द्वारा औचक निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान पाया गया कि गो आश्रय स्थल में मौजूद 24 गोवंश के सापेक्ष उनके खिलाने के लिए मात्र 50 किलो भूसा उपलब्ध है जो कि गोवंश के सापेक्ष उपलब्ध भूसा बहुत ही कम है।

इन अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस जारी

मौके पर जांच के समय उपलब्ध 50 किलो भूसे से परिलक्षित हुआ कि संरक्षित गोवंश को भरपेट भूसा-चारा नहीं दिया जा रहा है। गोवंश के साथ यह कृत्य पशु क्रूरता अधिनियम की परिधि में आता है जिसको लेकर डीएम के निर्देश पर डा. मेहेर सिंह पशु चिकित्सा अधिकारी विकास खंड संग्रामपुर द्वारा संबंधित सहायक विकास अधिकारी (पंचायत) दीनदयाल दूबे विकासखंड संग्रामपुर तथा संबंधित ग्राम प्रधान मोहम्मद तुफैल ग्राम पंचायत चंडेरिया के विरुद्ध संग्रामपुर थाने में एफआईआर दर्ज कराई गई है।

इसके अतिरिक्त गो आश्रय स्थलों पर पर्याप्त मात्रा में चारे-भूसे की उपलब्धता न सुनिश्चित करने तथा पशुओं के स्वास्थ्य की देखरेख व विभागीय दायित्व में लापरवाही बरतने पर खंड विकास अधिकारी भेटुआ संजय गुप्ता और भादर साबिर अली तथा उप मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ लाल रत्नाकर सिंह, पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ राम शिरोमणि, डॉक्टर उमेश चंद्र, डॉक्टर संतोष कुमार को कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिए हैं।

मीटिंग में गायब रहने पर भी हुई कार्रवाई

इसके साथ ही अपने अधीनस्थ कर्मचारियों पर समुचित नियंत्रण न रख पाने, सौंपे गए दायित्वों में शिथिलता बरतने तथा पशुओं की सही जियो टैगिंग न करवाने तथा अन्य विभागीय दायित्व में लापरवाही बरतने के मामले को लेकर मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी जेपी सिंह को कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिए इसके साथ ही डीएम द्वारा 13 मई को कलेक्ट्रेट सभागार में गो आश्रय स्थलों पर आवश्यक सुविधाओं को लेकर आयोजित बैठक के दौरान डॉक्टर अंबर मिश्रा पशु चिकित्सा अधिकारी फुरसतगंज, डॉ अजीत गुप्ता पशु चिकित्सा अधिकारी नवावां, डॉक्टर एमके वर्मा पशु चिकित्सा अधिकारी हरदो द्वारा बिना बताए अनुपस्थित रहने पर डीएम ने एक दिन का वेतन रोकने के साथ ही स्पष्टीकरण प्राप्त करने के निर्देश दिए।