कवि डॉ. कुमार विश्वास पर दर्ज मुकदमे हुए वापस:अमेठी में 2014 लोकसभा चुनाव के दौरान कुमार विश्वास पर दर्ज हुए थे तीन मुकदमे, यूपी सरकार ने लिए वापस

अमेठी10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कवि डॉ. कुमार विश्वास पर दर्ज मुकदमे हुए वापस। - Dainik Bhaskar
कवि डॉ. कुमार विश्वास पर दर्ज मुकदमे हुए वापस।

उत्तर प्रदेश की अमेठी लोकसभा सीट से कांग्रेस नेता राहुल गांधी के खिलाफ 2014 में आम आदमी पार्टी के प्रत्याशी के रूप में लोकसभा चुनाव लड़ने वाले कवि डॉ. कुमार विश्वास पर दर्ज तीन मुकदमे वापस होंगे। शासन की मांग पर अमेठी पुलिस ने मुकदमे से जुड़ी सभी फाइलें शासन को भेज दी हैं। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल पहले ही इस पर अपनी सहमति दे चुकी हैं। अब एमपी/एमएलए कोर्ट को इस पर फैसला लेना है।

2014 में दर्ज हुए थे मुकदमे

बता दें कि कवि डॉ. कुमार विश्वास ने 2014 में अमेठी से राहुल गांधी के खिलाफ लोकसभा चुनाव लड़ा था। उस समय आदर्श आचार संहिता उल्लंघन करने, मार्ग जाम करने व सरकारी कार्य व आमजन के आवागमन में बाधा उत्पन्न करने के तीन मुकदमे दर्ज हुए थे। इन मुकदमों में कुमार विश्वास, दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल सहित कई लोगों को पुलिस ने अभियुक्त बनाया था। सभी मुकदमे गौरीगंज कोतवाली में दर्ज हुए थे। दर्ज मुकदमों की अपराध संख्या 364, 367 व 389 में थी। इनमें से एक मुकदमे का विचारण वर्तमान समय में जनप्रतिनिधियों के विरुद्ध दर्ज मुकदमों के लिए विशेष कोर्ट में चल रहा है। दो मुकदमे अभी मजिस्ट्रेट की अदालत में लंबित हैं।

राज्यपाल ने मुकदमा वापस लेने पर दी सहमति

25 मई 2018 को अमेठी के तत्कालीन डीएम ने कुमार विश्वास आदि के विरुद्ध दर्ज मुकदमों की वापसी के संबंध में शासन को पत्र भेजा था। इसी पत्र पर शासन ने राज्यपाल से अनुमति मांगी थी। शासन के निर्णय का आधार बनाते हुए लोक अभियोजक वैभव कुमार पांडेय ने मुकदमा वापसी का प्रार्थना पत्र दिया है। पिछले दिनों राज्यपाल ने मुकदमा वापस लेने पर अपनी सहमति दी थी। राज्यपाल की अनुमति मिलने के बाद न्याय विभाग के अनुसचिव अरुण कुमार ने डीएम अमेठी को पत्र भेजा है।

एमपी/एमएलए कोर्ट के जज लेंगे फैसला

जिसमें उन्होंने अदालत में प्रार्थना पत्र देकर शासन के निर्णय का अनुपालन कराए जाने के लिए कहा है। एसपी अमेठी दिनेश सिंह ने कहा कि कुमार विश्वास से जुड़े मुकदमों की पांच फाइलें शासन को भेज दी गई हैं। मामले में एसपीओ की राय भी ली गई है। डीएम अरुण कुमार ने बताया कि उन्हें इस संबंध में कोई पत्र प्राप्त नहीं हुआ है। मुकदमे वापस होंगे या नहीं इसका निर्णय अब एमपी/एमएलए कोर्ट के जज पीके जयंत लेंगे।

खबरें और भी हैं...