• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Amethi
  • Heavy Sacrifice On Rain In Amethi: The Funeral Procession Of The Martyr Took Out In Sultanpur Amidst The Rain, The Crowd Gathered; The Last Rites Took Place At Sitakund Ghat

अमेठी में बारिश पर भारी बलिदान:बारिश के बीच निकली शहीद की अंतिम यात्रा, उमड़ा जनसैलाब; सीताकुंड घाट पर हुआ अंतिम संस्कार, डीएम ने परिजनों को सौंपा 50 लाख का चेक

अमेठी9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अमेठी में शहीद का बलिदान बारिश पर भारी पड़ा। शहीद दिनेश कसौधन का पार्थिव शरीर तीसरे दिन बुधवार देर रात उनके पैतृक गांव पहुंचा। रात से हो रही बारिश गुरुवार सुबह भी जारी रही, लेकिन शहीद के बलिदान के आगे बारिश हल्की पड़ गई। प्रयागराज-अयोध्या नेशनल हाईवे पर 15 किलोमीटर लंबी अंतिम यात्रा में हजारों लोगों का हुजूम उमड़ा।

सुल्तानपुर के सीताकुंड घाट पर गॉर्ड ऑफ ऑनर देकर शहीद को अंतिम विदाई दी गई। यहां पर वंदेमातरम, भारत माता की जय और शहीद दिनेश अमर रहे...के नारों से घाट गूंज उठा। शहीद दिनेश के भाई ने मुखाग्नि दी तो सभी की आंखें छलक उठीं।

11 वर्ष पूर्व दिनेश बीएसएफ में जीडी सिपाही में भर्ती हुए थे।
11 वर्ष पूर्व दिनेश बीएसएफ में जीडी सिपाही में भर्ती हुए थे।

शहीद की अंतिम विदाई के चलते गुरुवार को अमेठी का दुर्गापुर बाजार बंद रहा। डीएम अरुण कुमार और एसपी दिनेश सिंह ने शहीद के घर पहुंचकर श्रद्धांजलि दी और परिजनों को ढांढस बंधाया। डीएम ने शहीद की मां शारदा देवी को सरकार की ओर से दिए गए 50 लाख रुपए का चेक सौंपा। विधायक प्रतिनिधि अनंत विक्रम सिंह ने भी शहीद को श्रद्धांजलि अर्पित की।

प्रयागराज-अयोध्या नेशनल हाईवे पर 15 किलोमीटर लंबी अंतिम यात्रा में हजारों लोगों का हुजूम उमड़ा।
प्रयागराज-अयोध्या नेशनल हाईवे पर 15 किलोमीटर लंबी अंतिम यात्रा में हजारों लोगों का हुजूम उमड़ा।

हादसे में गई थी जान

सोमवार को श्रीनगर के कुपवाड़ा में हवलदार दिनेश ड्यूटी के समय इलेक्ट्रिक शॉक लगने से झुलस गए थे। जवान दिनेश को अचेत अवस्था में तुरंत यूनिट एमआई रूम ले जाया गया। प्राथमिक उपचार के बाद सिविल अस्पताल तंगधार ले जाया गया। जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया था।

शहीद दिनेश के भाई ने मुखाग्नि दी तो सभी की आंखें छलक उठीं।
शहीद दिनेश के भाई ने मुखाग्नि दी तो सभी की आंखें छलक उठीं।

राजस्थान में हुई थी पहली पोस्टिंग

शहीद जवान पीपरपुर के ग्राम पंचायत दुर्गापुर के निवासी थे। 11 वर्ष पूर्व वह बीएसएफ में जीडी सिपाही में भर्ती हुए थे, ट्रेनिग राजस्थान में हुई। ट्रेनिग के बाद पहली पोस्टिंग राजस्थान में हुई। वहां दो वर्ष बीतने के बाद उनका स्थानांतरण कोलकाता हो गया। एक वर्ष के बाद श्रीनगर के लिए स्थानान्तरण हुआ।

डीएम अरुण कुमार और एसपी दिनेश सिंह ने शहीद के घर पहुंचकर श्रद्धांजलि दी।
डीएम अरुण कुमार और एसपी दिनेश सिंह ने शहीद के घर पहुंचकर श्रद्धांजलि दी।

आखिरी बार रक्षाबंधन पर आए थे घर

2013 में रायबरेली के बछरावां में उसकी शादी हुई थी। पत्नी महिला हेल्प डेस्क 1090 पर हेड ऑफिस लखनऊ में कार्यरत हैं। शहीद अपने पीछे बेटी परि (7) और बेटा आदी कसौधन (4) को छोड़ गए हैं। आखरी बार वह रक्षाबंधन पर छुट्टियों पर आए थे। 1 सितंबर को ड्यूटी पर वापस गए थे।

डीएम ने शहीद की मां शारदा देवी को सरकार की ओर से दिए गए 50 लाख रुपए का चेक सौंपा।
डीएम ने शहीद की मां शारदा देवी को सरकार की ओर से दिए गए 50 लाख रुपए का चेक सौंपा।
खबरें और भी हैं...