‘लड़की हूं-लड़ सकती हूं’ का नारा अमेठी में फुस्स:पहली सूची में महिलाओं की अनदेखी, 2 सीटों पर पुरुषों को मिला टिकट; अन्य 2 पर भी दावेदारी मजबूत

अमेठी4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव व यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी यूपी चुनाव के शंखनाद से पहले 40 प्रतिशत महिलाओं को टिकट देने का फार्मूला लेकर आईं। फिर उन्होंने नारा दिया, ‘लड़की हूं, लड़ सकती हूं’। अब जब चुनावी सरगर्मी के बीच टिकट बंटवारे वाली कांग्रेस की लिस्ट आई तो चिराग तले अंधेरा रहा।

दो सीटों पर पुरुषों को दिया टिकट

गांधी-नेहरू परिवार के गढ़ अमेठी लोकसभा क्षेत्र में प्रियंका का नारा फुस्स हो गया। पहली सूची में यहां लोकसभा क्षेत्र की तीन सीटों के नामों की घोषणा हुई, लेकिन तीनों टिकट पुरुषों को मिला। तिलोई सीट से जहां कांग्रेस जिलाध्यक्ष प्रदीप सिंघल तो जगदीशपुर से विजय पासी को टिकट मिला। सलोन विधानसभा आती तो रायबरेली जिले में है, लेकिन अमेठी लोकसभा का अंग है। यहां से अजय पासी को टिकट दिया गया।

गौरीगंज सीट से ये लोग टिकट की लाइन में

जिले में अभी 2 सीटों पर टिकट की घोषणा होना बाकी है। जिसमें गौरीगंज और अमेठी की विधानसभा सीटें शामिल हैं। इन सीटों पर फिलहाल कांग्रेस के लिए मजबूत महिला प्रत्याशी नजर नहीं आ रही है। गौरीगंज से उम्मीदवारी को लेकर पुरुष प्रत्याशी मैदान में डटे हुए हैं। जिसमें राजू पंडित, अरुण मिश्रा, मोहम्मद नईम, फतेह बहादुर, रवि दत्त मिश्रा, सदाशिव यादव के नाम शामिल हैं।

अमेठी सीट से ये लोग टिकट की लाइन में

वहीं अमेठी से नरेंद्र मिश्रा, धर्मेंद्र शुक्ला, देवमणि तिवारी, अरविंद चतुर्वेदी के नाम अभी तक उम्मीदवारों की लिस्ट में हैं। ऐसे में महिला प्रत्याशी की घोषणा होना बहुत मुश्किल लग रहा है।

खबरें और भी हैं...