अमेठी में 2 शराब तस्कर गिरफ्तार:नमक की बोरियों के बीच छिपाकर ले जा रहे थे 517 पेटी शराब, पकड़ी गई शराब की कीमत 70 लाख

अमेठी3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अमेठी में बुधवार को प्रयागराज एसटीएफ व अमेठी पुलिस ने 517 पेटी अवैध अंग्रेजी शराब के साथ दो तस्करों को गिरफ्तार किया है। बरामद की गई है शराब की कीमत 70 लाख रुपए बताई जा रही है। पुलिस टीम गिरफ्तार किये गये तस्करों को विधिक कार्यवाही करते हुए जेल भेजने की तैयारी कर रही है।

हरियाणा से लेकर आ रहे थे शराब की खेप

पुलिस अधिकारी ने बताया कि काफी समय से सूचना मिल रही थी कि अन्तर्राज्यीय गिरोह दिल्ली, पंजाब व हरियाणा से अवैध अंग्रेजी शराब की तस्करी उत्तर प्रदेष के रास्ते बिहार प्रान्त के विभिन्न जिलों में कर रहा है। इस सम्बन्ध में एसटीएफ की विभिन्न टीमों ने सूचना संकलन किया गया एसटीएफ प्रयागराज के पुलिस उपाधीक्षक नवेन्दु कुमार ने इसकी कमांड अपने हाथों में लिया। इस क्रम में एसटीएफ प्रयागराज के निरीक्षक अनिल कुमार सिंह अपनी टीम के साथ अमेठी पहुंचे। हरियाणा से लाई जा रही थी शराब यहां मुखबिर से सूचना मिली कि शराब तस्करों द्वारा हरियाणा प्रान्त से अवैध अंग्रेजी शराब विक्रय हेतु लखनऊ-सुल्तानपुर नेशनल हाईवे के रास्ते बिहार प्रान्त ले जाया जा रहा है। इस सूचना पर मुखबिर द्वारा बताये हुये स्थान पर पहुंचकर टीम वाहन का इन्तजार करने लगी।

प्रयागराज एसटीएफ व अमेठी पुलिस को मिली सफलता।
प्रयागराज एसटीएफ व अमेठी पुलिस को मिली सफलता।

थोड़ी देर में मुखबिर द्वारा बताये गये नम्बर की गाड़ी आती हुई दिखाई दी। लखनऊ-सुलतानपुर हाईवे पर कमरौली थाना क्षेत्र के रोड नं-4 के पास रोककर चेक किया गया तो अवैध शराब से लदे ट्रक पर लदी 320 नमक की बोरियों के बीच अवैध अंग्रेजी शराब छिपाई गयी थी। ट्रक पर लदे नमक की बोरिया मय अवैध अंग्रेजी शराब को कब्जे में लेकर 2 अभियुक्तों (ट्रक चालक व सहायक) को मौके से गिरफ्तार किया गया।

सोशल मीडिया पर करते थे बातचीत

पूछताछ में गिरफ्तार अभियुक्तों द्वारा बताया गया कि राजेन्द्र ने बताया कि गिरोह बनाकर अवैध अंग्रेजी शराब की तस्करी का काम देश के विभिन्न राज्यों व उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में किया जाता है। गिरोह के सरगना राजेन्द्र द्वारा ही यह अवैध शराब हरियाणा से बिहार के पटना तक पहुंचाने के लिये भेजा गया था और उसके द्वारा बताया गया था, कि वहां अवैध शराब की तस्करी करने वाले गिरोह के कुछ लोग पहुँचेंगे। जो वहां से अपने अड्डे तक स्वयं लेकर जाएंगे। यही नहीं बल्कि बिहार के व्यापारी द्वारा शराब तस्करों से सोशल मीडिया पर सीधे वार्ता हो रही थी। इसलिये स्थानीय तस्करों के बारे में उन्हें जानकारी नहीं है।

एक चक्कर में मिलता था 15 से 20 हजार

गिरफ्तार अभियुक्त ट्रक चालक व सहायक ज्यादा पैसों के लालच में अवैध अंग्रेजी शराब को ट्रकों व अन्य वाहनों में भरकर विभिन्न राज्यों व उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में पहुंचाने का काम पिछले काफी समय से इस गिरोह के साथ मिलकर कर रहे है। इस काम के एवज में ट्रक के चालक व सहायक को खाने-पीने इत्यादि खर्चें के अलावा 15 से 20 हजार रूपए प्रति चक्कर तस्करों से मिल जाते है।

खबरें और भी हैं...