अमरोहा में 61 गोवंश को जहर देकर मारा गया:आरोपी ने पहले ही दिन जहरीला चारा किया सप्लाई, सस्ते दामों में बेचा था

अमरोहा4 महीने पहले

अमरोहा में 61 गोवंश की मौत के आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोपी ने गोवंश को जहरीला चारा देने की बात कबूल ली है। आरोपी ने बताया, "उसने गोवंश के लिए जहरीला चारा सस्ते दामों में बेचा था। जिसमें यूरिया की मात्रा ज्यादा थी। यूरिया डालने के बाद चारा गायों को 4 दिन बाद देना चाहिए, लेकिन मैंने उसी दिन चारा गोशाला में बेच दिया था। जिससे गोवंश की मौत हो गई।"

आरोपी ताहिर ने पुलिस को बताया, "उसने पहले दिन ही गौशाला में चारा दिया था।" पुलिस अधीक्षक ने बताया, "आरोपी ताहिर और ग्राम प्रधान राम अवतार के बीच चारे का ठेका हुआ था। गोवंशों की मौत के बाद ताहिर ने एक ट्रॉली चारा और बेचा था। जिसके जब्त कर लिया गया था।"

चारा खाने के बाद हर मिनट गोवंश की मौत हो रही थी।
चारा खाने के बाद हर मिनट गोवंश की मौत हो रही थी।

5 टीमें कर रहीं थी तलाश
घटना के बाद यानी 4 अगस्त से आरोपी ताहिर फरार चल रहा था। पुलिस ने उसकी गिरफ्तारी के लिए 5 टीमें लगाई थीं। सर्विलांस और SOG की टीम ने मुखबिर की सूचना पर आरोपी ताहिर को गिरफ्तार किया है। घटना अमरोहा के हसनपुर इलाके के गांव सांथलपुर की है।

गोवंशों की मौत के बाद गोशाला को सील कर दिया गया था।
गोवंशों की मौत के बाद गोशाला को सील कर दिया गया था।

50 हजार का इनाम था घोषित
फरार चल रहे ताहिर पर पुलिस ने 50 हजार रुपए का इनाम घोषित किया था। पुलिस ने मुख्य आरोपी ताहिर समेत तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। इससे पहले पुलिस ग्राम विकास अधिकारी और प्रधान समेत 12 आरोपियों को जेल भेज चुकी है।

इसी गौशाला में गोवंश को चारा दिया गया था।
इसी गौशाला में गोवंश को चारा दिया गया था।

127 गोवंश का हो रहा इलाज
सभी के खिलाफ पशु क्रूरता अधिनियम समेत कई संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज किया जा चुका है। पुलिस अधीक्षक आदित्य लांग्हे ने बताया, "सांथलपुर गांव में 4 अगस्त को गोशाला में हरा चारा खाने से 61 गोवंश की मौत हो गई थी। जबकि 127 गोवंश की तबीयत बिगड़ गई थी। अभी सभी बीमार गोवंश का इलाज लखनऊ और आगरा के पशु चिकित्सक कर रहे हैं। 1 गोवंश की हालत गंभीर है।"

पशुधन मंत्री धर्मपाल भी गोशाला पहुंचे थे।
पशुधन मंत्री धर्मपाल भी गोशाला पहुंचे थे।

सीएम ने लिया था संज्ञान
सीएम के आदेश के बाद पशुधन मंत्री धर्मपाल सिंह मौके पर पहुंचे थे। उन्होंने 61 गोवंश की मौत के बारे में जानकारी ली थी। गोशाला में मौजूद पशुओं का हाल जाना था। उन्होंने कहा था, "जहरीला चारा खाने से पशुओं की मौत हुई है, जो अत्यंत दुखद घटना है।" मामले की जांच के लिए पशु पालन विभाग के डॉ.रजनीश दुबे की अध्यक्षता में एक जांच कमेटी गठित की गई थी। जिसमें डायरेक्टर और कमिश्नर शामिल थे।

खबरें और भी हैं...