अजीतमल में ई-स्कूटी की डिस्ट्रीब्यूटरशिप दिलाने के नाम पर ठगी:चेन्नई के दो युवकों ने 5 किस्तों में लिए 12 लाख, पुलिस कर रही जांच

अजीतमल22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

औरैया जिले के अजीतमल कोतवाली क्षेत्र में एक युवक को ई-स्कूटी की डिस्ट्रिब्यूटरशिप दिलाने के नाम पर 12 लाख रुपए की ठगी का मामला सामने आया है। जब तय समय निकलने के बाद भी स्कूटी नहीं पहुंची तब उसे ठगी का अहसास हुआ। पीड़ित युवक ने दो नामजद युवकों के खिलाफ कोतवाली में मुकदमा पंजीकृत कराया है। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।

मामला कोतवाली क्षेत्र के बीघेपुर गांव का है। गांव निवासी प्रेम सिंह ने बताया कि मैंने फेसबुक पर रेबोल्ट इलेक्ट्रिक की डीलरशिप का विज्ञापन देखा था। इसमें लिखा था कि जो भी व्यक्ति डीलर शिप लेने का इच्छुक हैं, वह आवेदन करें। मैंने भी अपना आवेदन कर दिया। इसके बाद मेरे पास रवि श्रीवास्तव नाम के एक व्यक्ति ने फोन करके शर्तें बताई। इसके बाद मैंने ओन लाइन आवेदन करके सभी शर्तों को पूरा किया।

मुझे एक लॉगिन आईडी और पासवर्ड दिया गया

इसके बाद अकाउंट विभाग से आलोक कुमार ने मुझे फोन किया और मुझे पंजीकरण शुल्क के नाम पर एक खाते में 45,500 रुपए जमा करा लिए। जो खाता नम्बर अन्न नगर चेन्नई तमिलनाडु के नाम पर था। इसके बाद मुझे एक लॉगिन आईडी और पासवर्ड दिया गया। उस आईडी के लॉगिन करने पर मुझे डीलरशिप का प्रमाणपत्र मिला। मुझे गाड़ियों का ऑर्डर बुक करने के लिए कहा गया।

इसके बाद मुझे 75% अनुदान देने की बात कहकर मुझसे खाते में 5,22,177 रुपए जमा करा लिए गए। फिर मुझसे कहा कि दीपावली का भुगतान बिलंब होने के कारण ऑर्डर समाप्त हो गया। आलोक सिंह ने बताया कि अब इस परिपेक्ष्य में एक अनुबंध करना होगा। इसकी धनराशि मुझसे 99,999 रुपए जमा करा लिए। इसके बाद स्पेयर पार्ट और बीमा के नाम पर 3,50,000 रुपए जमा करा लिए गए।

कंपनी ने बताया कि ऐसी कोई स्कीम नहीं है

इसके बाद ट्रांसपोर्ट के नाम पर 1,85,496 रुपए जमा करा लिए गए। इतना पैसा जमा होने के बाद भी मुझे गाड़ियां नही भेजी गई। तो मैंने कस्टमर केयर के लखनऊ ऑफिस फोन किया। उन्होंने बताया कि ऐसी कोई स्कीम नहीं है। यह सब धोखाधड़ी है। लेकिन तब तक 12,03,172 रुपए जमा कर चुके थे। पीड़ित ने रवि श्रीवास्तव और आलोक कुमार नाम के दो व्यक्ति के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

खबरें और भी हैं...