अयोध्या में 39 करोड़ में गुप्तारघाट हो रहा डेवलप:सीढ़ियों पर चित्रकारी भी दिखेगी, पर्यटकों को पौराणिक और ऐतिहासिक स्थलों की जानकारी मिलेगी

अयोध्या19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

राम की पैड़ी समेत आसपास के सरयू तट को भव्य लुक देने के बाद सरकार अब गुप्तार घाट को भव्य बना रही है। नयाघाट तक के करीब 10 किलोमीटर तक नदी के किनारे के घाटों को आपस में जोड़ पर्यटन का नया हब तैयार किया जा रहा है l जिससे पर्यटक का बढ़ावा मिलेगा।

नयाघाट सरयू तट तक बन रही 6 मीटर चौड़ी सड़क।
नयाघाट सरयू तट तक बन रही 6 मीटर चौड़ी सड़क।

गुप्तार घाट से नया घाट तक नदी के किनारे बांध बनाया जा रहा है
गुप्तार घाट से नया घाट तक सरयू नदी के किनारे नया बंधा बनाया जा रहा है। इस पर 6 मीटर चौड़ी सड़क तैयार कराई जा रही है। इस बांध और सड़क पर करीब 39 करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे हैं। डीएम नीतीश कुमार ने बताया, "अयोध्या की ऐतिहासिकता और महत्ता को देखते हुए उत्तर प्रदेश शासन की ओर से तेजी से विकास कार्य कराए जा रहे हैं।"

ऐतिहासिक और पौराणिक स्थल को सरकार ने संवारने पर पूरा ध्यान
उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दोबारा सत्तारूढ़ होने के बाद अयोध्या फिर से विकास पथ पर तेजी से आगे बढ़ाया। रामनगरी से जुड़े हर ऐतिहासिक और पौराणिक स्थल को सरकार ने संवारने पर पूरा ध्यान दिया है।

मान्यता है कि भगवान राम ने गुप्तार घाट पर अपने शरीर को गुप्त कर लिया था। सरकार ने इस घाट को भी संवारने का बीड़ा उठाया था। पर्यटकों को आकर्षित और घाट की पौराणकिता को देखते हुए इसे नया लुक दिया जा रहा है।

गुप्तारघाट की सीढ़ियों को पेंट किया जा रहा है।
गुप्तारघाट की सीढ़ियों को पेंट किया जा रहा है।

सीढ़ियों पर भी दिखेगी चित्रकारी
गुप्तार घाट की सीढ़ियों पर चित्रकारी भी दिखेगी। यहां श्रद्धालुओं, पर्यटकों और आगंतुकों को लुभाएगी। आने वाले समय में गुप्तारघाट नए लुक में नजर आएगा। इस घाट पर श्रीराम चरित मानस, रामकथा, अयोध्या के पौराणिक, धार्मिक और ऐतिहासिक स्थलों की भी जानकारी दी जाएगी।

पर्यटको की सुविधाओं के लिए दुकानें बनाई जा रही हैं।
पर्यटको की सुविधाओं के लिए दुकानें बनाई जा रही हैं।

लगभग 70% कार्य पूरा
यह कार्य अयोध्या विकास प्राधिकरण की ओर से कराया जा रहा है। सहायक अभियंता अनिल सिंह ने बताया, "गुप्तार घाट का लगभग 70% काम पूरा हो चुका है। यहां जाने के लिए 24 मीटर चौड़ी रोड बन रही है। रोड के किनारे पार्किंग और बाउंड्री का काम अभी चल रहा है। दुकानों का निर्माण कार्य भी जारी है।

यहां लगभग 31 दुकानें बन रही हैं। सड़क, बाउंड्री समेत अन्य काम के लिए 12 करोड़ 76 लाख दुकान और पार्किंग के लिए 5 करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे हैं। गुप्तार घाट का काम जनवरी 2022 में शुरू हुआ था। इस महीने के अंत तक इसे पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है।
गुप्तार घाट से भगवान श्रीराम ने साकेत धाम को किया था प्रस्थान
सरयू नदी के तट पर स्थित गुप्तार घाट का धार्मिक महत्व है। पौराणिक कथा के अनुसार भगवान राम ने बैकुंठ जाने के लिए यहां से प्रस्थान किया था। मान्यता है कि इस घाट पर सरयू में डुबकी लगाने से पाप धुल जाते हैं। उन्हें सांसारिक चिंताओं से मुक्ति मिलती है।

यह घाट भगवान राम नाम के मंत्रों से सदैव गूंजता रहता है। इस घाट पर राम जानकी, चरण पादुका, नरसिंह और हनुमानजी के प्रसिद्ध मंदिर भी हैं। इन सुव्यवस्थित घाटों का नव निर्माण राजा दर्शन सिंह ने 1वीं सदी में कराया था।

सीढ़ियों के साथ पैदल मार्ग पर भी बनाई गईं पेटिंग्स।
सीढ़ियों के साथ पैदल मार्ग पर भी बनाई गईं पेटिंग्स।
खबरें और भी हैं...