• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Ayodhya
  • Avadh University Was Not Ready To Give Three Acres Of Land For Airport In Ayodhya Without Fee, Did Not Agree In The Meeting Of The Executive Council

अविवि ने इंफ्रास्ट्रचर के लिए शासन से मांगा 21 करोड़:अयोध्या में हवाई अड्‌डा के लिए बिना शुल्क तीन एकड़ जमीन देने को तैयार नहीं हुआ अवध विवि, कार्य परिषद की बैठक में सहमति नहीं

अयोध्या2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अवध विवि जिसकी जमीन की मांग अयोध्या में हवाई अड्डा के निर्माण के लिए की जा रही है पर वह इसे नि:शुल्क देने पर राजी नहीं है - Dainik Bhaskar
अवध विवि जिसकी जमीन की मांग अयोध्या में हवाई अड्डा के निर्माण के लिए की जा रही है पर वह इसे नि:शुल्क देने पर राजी नहीं है

अयोध्या के डाॅ0 राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के कौटिल्य प्रशासनिक भवन में आज हुई कार्य परिषद की बैठक में विश्वविद्यालय की 2.900 हेक्टेयर भूमि पर बनी संपत्तियों को उच्च शिक्षा विभाग की ओर से नागरिक उड्डयन विभाग को नि:शुल्क देने के मुद्दे पर राय नहीं बन सकीl इस संबंध में कार्य परिषद ने सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि इस पर पुनर्विचार के लिए शासन को पत्र लिखा जाए l

उच्च शिक्षा विभाग का नागरिक उड्डयन विभाग को जमीन नि:शुल्क देने का निर्णय था

बैठक की अध्यक्षता विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 रवि शंकर सिंह ने की।कुल सचिव उमानाथ ने कार्य वृत्त पटल पर रखा। बैठक में शासन से जारी पत्र संख्या 1757/ 56 - 2021 -11/ 2013 दिनांक 3 सितंबर 2021 के बिंदु संख्या 02 पर विचार कियाl इसके तहत डॉ0 राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय अयोध्या की 2.900 हेक्टेयर भूमि पर अवस्थित परि संपत्तियों को उच्च शिक्षा विभाग ने नागरिक उड्डयन विभाग को नि:शुल्क देने का निर्णय था।

राज्यपाल,उच्च शिक्षा मंत्री व प्रमुख सचिव को सूचित कर नि:शुल्क भूमि व निर्माण व्यय की मांग पर बनी राय

बैठक में कहा गया कि चूंकि विश्वविद्यालय विद्या का मंदिर है इसलिए इसके विस्तार के लिए और उच्च शिक्षा की सुविधा प्रदान करने के लिए विश्वविद्यालय के आसपास नि:शुल्क भूमि दी जाए तथा इसके निर्माण में आने वाले व्यय के लिए सहयोग भी मांगा जाए। इस संदर्भ में राज्यपाल/कुलाधिपति व उच्च शिक्षा मंत्री तथा अपर प्रमुख सचिव,उच्च शिक्षा को सूचित किया जाना चाहिए।

विश्वविद्यालय ने इंफ्रास्ट्रचर के लिए शासन से मांगा 21.02 करोड़

बैठक में विश्वविद्यालय की भूमि व उस पर अवस्थित सम्पत्ति को उच्च शिक्षा विभाग द्वारा नागरिक उड्डयन विभाग को बिना शुल्क देने पर प्रमुख रूप से कुलपति आवास सहित कुल 27 भवन हवाई पटटी अंतरित किया जाना है। इसके अतिरिक्त नवीन परिसर के तीन नये भवन भी है। विश्वविद्यालय ने शासन से इंफ्रास्ट्रचर के लिए 21.02 करोड़ रुपये की मांग का प्रस्ताव भेजा है।बैठक में प्रो० आशुतोष सिन्हा, डॉ० संग्राम सिंह, डॉ० जगदीश सिंह, डॉ० इन्दु शेखर उपाध्याय, प्रो० अरविन्द कुमार मिश्रा, प्रो० गोपाल नाथ, प्रो० रवीन्द्र नाथ खरवार, डॉ० सिंधु सिंह, डॉ० जग वीर सिंह, प्रो० चयन कुमार मिश्रा, वित्त अधिकारी (विशेष आमंत्रित सदस्य) उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...