• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Ayodhya
  • Ayodhya Was Engrossed In The Gaiety Of Ram Marriage Throughout The Night, Chanting Mangal Songs, Became A Horse, The Bridegroom Shri Ram Rode.Ayodhya. Ramvivah.Ramvallabhakunj. Viahuti Bhaewan. Kanak Bhawan. Mantrartha Mandapam

रामविवाह में मगन रही अयोध्या:आनंद व उल्लास में रात भर डूबी रही अयोध्या,गूंजते रहे मंगल गान,संत बने घोड़ा,सवार हुए दुलहा श्रीराम

अयोध्या8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रामविवाह के अवसर पर अयोध्या के प्रसिद्ध वैष्णवपीठ श्रीरामवल्लभाकुंज में विराजमान भगवान श्रीराम व सीता का मनोहकर रूप - Dainik Bhaskar
रामविवाह के अवसर पर अयोध्या के प्रसिद्ध वैष्णवपीठ श्रीरामवल्लभाकुंज में विराजमान भगवान श्रीराम व सीता का मनोहकर रूप

अयोध्या पूरी रात मंगल गीतों से गुलजार रहीl बुधवार को रात दो बजे तक चले विवाह के उल्लास में न केवल संत-धर्माचार्य बल्कि दो लाख श्रद्धालुओं का समूह शामिल हुआl लौकिक व वैदिक दोनों रीतियों से श्रीराम व श्री सीता जी का विवाह हुआ और सात फेरे भी पड़ेl

भगवान श्रीराम व श्रीसीता की मूर्तियों का विवाह हुआ
भगवान श्रीराम व श्रीसीता की मूर्तियों का विवाह हुआ
संत घोड़ा बने और राम जी को मंडप तक पहुंचाया गया
संत घोड़ा बने और राम जी को मंडप तक पहुंचाया गया
विवाह के दौरान संतों ने मंगल गीत भी गाए
विवाह के दौरान संतों ने मंगल गीत भी गाए

भगवान को नूतन वस्त्र के साथ सोने के मुकुट, हार व अगूंठी आदि पहनाए गए

प्रसिद्ध वैष्णवपीठ श्रीरामवल्लभाकुंज में मंदिर के गर्भगृह को बेहद भव्य सजाया गया था भगवान को नूतन वस्त्र के साथ सोने के मुकुट, हार व अगूंठी आदि पहनाए गए थेl संत ने घोड़ा बनकर अपनी पीठ पर भगवान राम को बिठाकर घुघुरुं बजाते हुए भगवान को विवाह मंडप तक पहुंचायाl इसके बाद महंत रामशंकर दास वेदांती की मौजूदगी में विवाह की रस्म हुईl

अनेक प्रकार के देशी-विदेशी फलों से सजाया गया था विवाह मंडप
अनेक प्रकार के देशी-विदेशी फलों से सजाया गया था विवाह मंडप
पगड़ी पहनाकर हुआ बारातियों का स्वागत
पगड़ी पहनाकर हुआ बारातियों का स्वागत
चंवर हिलाकर भगवान की सेवा करते रामभक्त संतीव शंकर व रामवल्लभाकुंज के प्रमुख स्वामी राजकुमार दास
चंवर हिलाकर भगवान की सेवा करते रामभक्त संतीव शंकर व रामवल्लभाकुंज के प्रमुख स्वामी राजकुमार दास

रामभक्त संजीव शंकर ने बारातियों का स्वागत पगड़ी व खास किस्म के माला से किया

दिल्ली स्थित मानव सेवा आश्रम के प्रमुख रामभक्त संजीव शंकर ने बारातियों का स्वागत पगड़ी व खास किस्म के माला से कियाl इस अवसर पर नीक लागे सीता के सजनवा अंगनवा बीचे।अंखवा में सोहेला कजरवा व चारो दुलहा में बड़का कमाल सखियां आदि गीत संतों ने गाएl अयोध्या एडवर्ड तीर्थ विवेचिनी सभा के अध्यक्ष व मंदिर के प्रमुख स्वामी राजकुमार दास ने संतों व पंडितों को वस्त्र व दक्षिणा देकर उनका स्वागत कियाl हथकरघा एवं हस्तशिल्प के पूर्व निदेशक राजकिशोर प्रसाद ने कन्या दान की रस्म अदा कीlइस अवसर पर तन तुलसी पीठाधीश्वर जगदगुरु विष्णुदेवाचार्य,नाका हनुमानगढ़ी के महंत रामदास,एसएसपी शैलेश कुमार पांडेय,एसएसपी सुरक्षा पंकज पांडेय,डाक्टर आरपी सिंह, भाजपा महानगर अध्यक्ष अभिषेक मिश्र आदि विशेष रूप से मौजूद रहेl

इन मंदिरों में हुआ रामविवाह

प्रसिद्ध विअहुति भवन, बड़ा स्थान दशरथ महल, कनक भवन,लक्ष्मण किला,जगन्नाथ मंदिर,रामसखी मंदिर, दिव्यकला कुंज,रंगमहल,जानकी महल ट्रस्ट,मंत्रार्थ मंडपम,रंगमहल,श्रीरामबल्लभाकुंज,सद्गुरु सदन आदि मंदिरों में विवाह उल्लास रहा।

विअहुति भवन में पूरे साल होती है रामविवाह की रस्म

युगल उपासना से जुड़े बिअहुति भवन सीताराम विवाह की जीवंतता दिखी। यहां भगवान श्रीसीताराम की वर्ष भर विवाह उपासना की जाती है। सीताराम विवाहोत्सव को ही ध्यान में रखकर पीठ में भगवान राम के पक्ष अयोध्या और सीता के पक्ष जनकपुर के रूप में स्थापित दो प्रखंड रास बिहारी कुंज और बिअहुति भवन में देर रात व दूसरे दिवस देर शाम तक पारंपरिक विवाह रस्म का उल्लास प्रस्फुटित होता रहा।

'

खबरें और भी हैं...