पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अयोध्या के समाजिक कार्यकर्ता ने जीता लोगों का दिल:विवेक ने मलेशिया और सऊदी अरब में फंसे दो भारतीयों को वापस सकुशल उनके घर पहुंचाया,वैश्विक महामारी में दवा और भोजन भी पहुंचा रहे हैं

अयोध्या2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
विवेक ने लोगों की मदद के लिए अपनी एक टीम भी बना रखी है। - Dainik Bhaskar
विवेक ने लोगों की मदद के लिए अपनी एक टीम भी बना रखी है।

वैश्विक महामारी में लोगों की मदद कर रहे अयोध्या के सामाजिक कार्यकर्ता विवेक ने मलेशिया और सऊदी अरब में फंसे दो भारतीयों को वापस सकुशल उनके घर पहुंचाया है। वह इसके पहले भी विदेशों में फंसे भारतीयों की मदद कर चुके हैं। उन्होंने इसी महीने बलरामपुर व देवरिया के दो लोगो को दुबई से यूपी भिजवाया है। विवेक मूल रूप से अयोध्या के निवासी हैं। वह दुबई में रहते हैं। उन्होंने लोगों की मदद के लिए अपनी एक टीम भी बना रखी है। जो विदेशों में फंसे भारतीयों के पास दवा से लेकर भोजन और जरूरत के अन्य सामान पहुंचा रहा है। उन्होंने यह सब काम तब किया, जब वे ख़ुद परिवार सहित अस्पताल के चक्कर लगा रहे हैं।

दुर्गा की ऐसी की थी मदद
ताजा मामला उत्तर प्रदेश के बलरामपुर जिले के रहने वाले दुर्गा प्रसाद जो मलेशिया में नौकरी करके अपने परिवार का जीवन यापन कर रहे थे। इस कठिन समय में पिछले 4 महीने से अपने घर वापस लौटना चाह रहे थे। लेकिन उनकी कंपनी का मालिक न तो पासपोर्ट दे रहा था ना ही जाने दे रहा था।

इस बात की जानकारी जब विवेक तिवारी को हुई तो उन्होंने भारतीय दूतावास मलेशिया और कंपनी के मालिक से संपर्क कर तत्काल उनका पूरा बकाया वेतन, जाने का टिकट करवा कर वापस उन्हें सकुशल बलरामपुर भेजा।

अपनी मां और परिवार के बीच 3 साल बाद पहुंचने पर दुर्गा प्रसाद बहुत ही खुश है। दुर्गा और उनकी मां ने परिवार समेत इस नेक कार्य के लिए विवेक तिवारी की खूब तारीफ कर रहा है। साथ ही उन्हें जी भर कर दुवाएं भी दे रहा है।

रियाद जेल में बंद कृष्ण मुरारी को मुक्त कराकर वापस भेजा
देवरिया निवासी कृष्ण मुरारी सऊदी अरब के रियाद जेल में बंद था। उप कुलसचिव महाराजा सूरजमल विश्व विधालय भरतपुर, अरुण पाण्डेय के द्वारा इस बात की जानकारी जब विवेक को हुई तो वे तत्काल मदद के लिए आगे आए। भारत सरकार से सम्पर्क साधा। उन्होंने अधिकारियों को पूरे मामले की जानकारी दी। जिसके बाद भारत सरकार ने मुरारी को रियाद जेल से रिहा कराया। उसके बाद वह भारत अपने घर सही सलामत पहुंचा।

विदेश में नौकरी करने वाले लोगों को विवेक ने दी ये सलाह
भारत से जो लोग विदेश मे जाकर नौकरी करना चाहते है। विवेक तिवारी ने उन सभी को एक सलाह दी है। विवेक का कहना है कि हर देश का नियम कानून अलग-अलग है। इसलिए जहां भी जाए उस देश के कानून का पालन करे। विवेक तिवारी ने बताया कि वह सपरिवार पिछले 2 महीने से अबूधाबी ( दुबई) में हॉस्पिटल के चक्कर लगा रहे हैं लेकिन इस मुश्किल घड़ी में भी वे लोगों की मदद करना नहीं भूले हैं। लोगों की मदद के लिए उनसे जो कुछ भी बन पा रहा है। वो कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...