अयोध्या में खतरे के निशान पर पहुंचा सरयू का जलस्तर:तटवर्ती इलाकों में  बाढ़ का खतरा, मौसम में भी हुआ बदलाव

अयोध्या4 महीने पहले

अयोध्या में सरयू का जलस्तर खतरे के निशान के पास पहुंच गया है। खतरे के निशान से महज 3 सेमी दूर है। जिसके चलते तटवर्ती इलाकों में बाढ़ का खतरा बढ़ गया है। वहीं दूसरी ओर मौसम में भी सोमवार को बदलाव देखने को मिला। सुबह के तापमान में अचानक चार डिग्री सेल्सियस की बढ़ोतरी दर्ज की गई। इससे लोग उमस भरी गर्मी से परेशान दिखाई दिए।

सरयू का जलस्तर खतरे के निशान से तीन सेमी नीचे
पहाड़ों पर हो रही बारिश और गिरिराज बैराज से लगातार पानी छोड़े जाने के कारण अयोध्या और गोंडा में बाढ़ का खतरा बढ़ गया है। सोमवार सुबह आठ बजे सरयू का जलस्तर 92.00 पर पहुंच गया। खतरा का निशान 92.30 है। यानी सरयू नदी का जलस्तर खतरे के निशान से तीन सेमी नीचे है।

केंद्रीय जल आयोग अयोध्या के प्रभारी अमन चौधरी ने बताया कि सोमवार को सरयू का प्रवाह तेजी से बढ़ा है। बीते 24 घंटों में 7 सेमी जलस्तर में इजाफा हुआ है। उन्होंने बताया कि आगामी 24 घंटों में जलस्तर खतरे के निशान को पार कर जाएगा।

जलस्तर बढ़ने से बाढ़ का खतरा
अयोध्या में लगातार सरयू का जलस्तर बढ़ने से जनपद के तटवर्ती इलाकों में बाढ़ का खतरा बढ़ गया है। साथ ही अयोध्या सीमा से सटे गोंडा और बस्ती जनपदों कें कुछ इलाकों में भी बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है। बीते 24 घंटों में गोंडा के नवाबगंज और बस्ती के विक्रमजोत क्षेत्र के कई इलाकों में नदी का पानी खेतों में पहुंचने लगा है।

दुर्गागंज माझा के रामकिशन यादव ने बताया कि यदि यही स्थिति रही तो आने वाले दिनों में बाढ़ के पानी से कई सौ एकड़ फसलें डूब जाएगी। बाढ़ के खतरे को देखते हुए प्रशासन ने भी तैयारियां शुरू कर दी है।

यह तस्वीर अयोध्या के पुष्पराज चौराहे की है। यहां आसमान में हल्के बादल छाए हुए है।
यह तस्वीर अयोध्या के पुष्पराज चौराहे की है। यहां आसमान में हल्के बादल छाए हुए है।

मौसम में हुआ बदलाव
अयोध्या और देवीपाटन मंडल के नौ जनपदों में सोमवार को मौसम में बदलाव देखने को मिला। यहां सुबह से निकली चटख धूप और उमस भरी गर्मी से लोग बेहाल दिखाई दिए। सुबह के तापमान में 4 डिग्री सेल्सियस का इजाफा हुआ। मौसम विभाग के अनुमानों के अनुसार दिन का तापमान 36 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहेगा। आचार्य नरेंद्र देव कृषि प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अनुसार प्रो अमरनाथ मिश्र के अनुसार आगामी 24 घंटों में आसमान में हल्के बादल छाए रहेंगे। कुछ इलाकों में बूंदाबांदी की संभावना है।

बाढ़ से बचने के लिए अपनाएं उपाय

  • बिजली का मेन स्विच बंद कर दे।
  • घर के कीमती वस्तुएं तथा कागजात अपने पास रखें या ऊपरी मंज़िल में ले जायें।
  • घर के प्लास्टिक बोतल पानी से भर ले।
  • बाढ़ में फसने पर अधिकारियों को इसकी सूचना दें।
  • बहते पानी में पैदल न चलें।
  • पानी में डूबा रास्ते में गाड़ी न चलाएं। कोई दूसरा रास्ता ढूंढें।
  • बढ़ते पानी में आपकी गाड़ी अगर रुक जाये तो तुरंत गाड़ी छोड़ के ऊंचे इलाके की और जाये।
  • गिरे हुए बिजली के तार से बहुत सावधान रहे। घर में डूबे हुए बिजली के तार से भी यह खतरा है।
  • सांप तथा अन्य जानवर आपके घर में घुस सकता है, उनसे सावधान रहे।
  • आस-पास के बुजुर्गों, बच्चों और विकलांगों की मदद करें।
खबरें और भी हैं...