सरयू नदी का जलस्तर खतरे के निशान 38 सेमी ऊपर:गिरिजा बैराज से 53 लाख क्यूसेक पानी छोड़े से दस जनपदों में बाढ़ का खतरा, प्रशान ने अलर्ट किया जारी

अयोध्या15 दिन पहले
अयोध्या में खतरे के निशान से 38 सेमी ऊपर बह रही सरयू नदी, कई जनपदों में बाढ़ का खतरा।

पूर्वी उत्तर प्रदेश और पहाड़ों पर हुई मुसलाधार बारिश के चलते अयोध्या समेत 10 जिलों में बाढ़ की स्थिति बन गई है। कतार्नेया घाट रेंज के गिरिजा बैराज से शुक्रवार, शनिवार और रविवार रात को 53 लाख क्यूसिव पानी छोड़े जाने के कारण यह स्थित बनी है।जिसके चलते जलस्तर खतरे के निशान से 38 सेमी ऊपर बह रही है। जलस्तर में प्रतिघंटो एक सेमी का इजाफा हो रहा है।

दस जनपदों में बाढ़ का खतरा बढ़ा

गिरिजा बैराज से शुक्रवार शाम को 17 लाख क्यूसेक और शनिवार रात 28 लाख क्यूसेक और रविवार से सोमवार सुबह तक 8 लाख क्यूसेक पानी छोड़े जाने के बाद सरयू (घाघरा) के जलस्तर खतरे के निशान को पार कर गया। रविवार सुबह को ही जलस्तर खतरे के निशान को पार लिया था। शनिवार शाम को सरयू का जलस्तर खतरे के निशान के पास पहुंच गया। केंद्रीय जल आयोग अयोध्या प्रभारी अमन चौधरी ने बताया कि अयोध्या में जलस्तर प्रतिसेमी एक मिमी बढ़ रहा है। सोमवार सुबह नौ बजे जलस्तर 93.110 सेमी पहुंच गया है। जो खतरे के निशान से 38 सेमी ऊपर बह रही है।

प्रशासन ने अलर्ट किया जारी

सरयू के बढ़ते जलस्तर को देखते हुए केंद्रीय जल आयोग की टीमों ने जिला प्रशासन को अवगत करते हुए अलर्ट जारी कर दिया है। अधिकारियों ने बताया कि जिला प्रशासन और बाढ़ ग्रस्त इलाकों में लोगों के बचाव व राहत के कार्य के लिए इंतजाम शुरू करेंगे।

दस जनपदों में बाढ़ का खतरा बढ़ा

गिरिजा बैराज से पानी छोड़े जाने के बाद अयोध्या, लखमीपुर, श्रावस्ती, गोंडा, बलरामपुर, बस्ती, आजमगढ़, अंबेडकरनगर, संतकबीरनगर, सीतापुर सरयू के तटवर्ती जनपदों में बाढ़ का खतरा बढ़ गया है। केंद्रीय जल आयोग के अधिकारियों के अनुसार यदि स्थित यहीं रही तो इन जनपदों के तटवर्ती क्षेत्रों में बाढ़ का पानी आज रात से ही घुसने लगेगा।

अयोध्या में सरयू का जलस्तर खतरे के निशान का किया पार
अयोध्या में सरयू का जलस्तर खतरे के निशान का किया पार

सितंबर 2018, 2020 और 2021 जलस्तर 93 सेमी का आंकड़ा किया था पार

अयोध्या केंद्रीय जल आयोग के प्रभारी अमन चौधरी ने बताया कि सरयू नदी के जलस्तर में जिस तरह से बढ़ोतरी हो रही है। उससे यह अनुमान लगया जा सकता है कि यह आंकड़ा आागमी 24 घंटो में 93 सेमी के आंकड़े को पार कर सकता है। अधिकारी ने बताया कि इससे पहले सितंबर माह में 2018 में जलस्तर 93.380 और 2021 में 93.260 पहुंचा था। 2020 में जलस्तर 93.407 तक पहुंच गया था।