पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Ayodhya
  • Ayodhya Ram Mandir Construction Land Scam Allegations | Shri Ram Janmabhoomi Teerth Kshetra Trust, Samajwadi Party Senior Leader Tej Narayan Pandey

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण में घोटाले का आरोप:पूर्व मंत्री का सवाल- 2 करोड़ की जमीन 10 मिनट में 18.5 करोड़ की कैसे हो गई

अयोध्या2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट द्वारा राम मंदिर निर्माण के लिए खरीदी गई जमीन पर सवाल उठाए गए हैं। समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता व पूर्व मंत्री तेज नारायण पांडेय पवन ने श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट पर जमीन खरीद में भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है।

उन्होंने कहा कि दो करोड़ रुपए में बैनामा कराई गई जमीन को 10 मिनट के अंदर 18.50 करोड़ रुपए में रजिस्टर्ड एग्रीमेंट कर दिया गया। पवन ने पूरे मामले में दस्तावेज पेश करते हुए इसकी जांच CBI से कराने की मांग की है। इस मामले को लेकर कांग्रेस एवं आम आदमी पार्टी ने भी यूपी सरकार पर हमला बोला है। वहीं ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने एक पत्र जारी कर आरोपों को खंडन किया है।

पूर्व मंत्री पवन पांडेय ने बताया कि यह भूमि सदर तहसील क्षेत्र के बाग बिजैसी में स्थित है, जिसका क्षेत्रफल 12 हजार 80 वर्ग मीटर है। यह भूमि रवि मोहन तिवारी नाम के एक साधु व सुल्तान अंसारी के नाम बैनामा हुई थी। ठीक 10 मिनट बाद इसी भूमि का ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय के नाम 18.50 करोड़ में रजिस्टर्ड एग्रीमेंट कर दिया जाता है। बैनामा व रजिस्टर्ड एग्रीमेंट 18 मार्च, 2021 को किया गया।

आरोप है कि बैनामा व रजिस्टर्ड एग्रीमेंट में ट्रस्ट के सदस्य अनिल मिश्र और नगर निगम के महापौर ऋषिकेश उपाध्याय गवाह हैं। उन्होंने आरटीजीएस की गई 17 करोड़ रुपए धनराशि की जांच कराने की मांग की है। कहा है कि यह धनराशि कहां-कहां गई इसका पता लगाया जाए और भ्रष्टाचार में लिप्त लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाए।

इस जमीन के दोनों ही सौदों में कॉमन गवाह ट्रस्ट के ट्रस्टी डॉ. अनिल मिश्रा हैं
इस जमीन के दोनों ही सौदों में कॉमन गवाह ट्रस्ट के ट्रस्टी डॉ. अनिल मिश्रा हैं

राम के नाम पर हो रही लूट, इसकी जांच होनी चाहिए
कांग्रेस के प्रवक्ता सुरेंद्र राजपूत ने कहा कि आज जो आरोप विश्व हिंदू परिषद पर लग रहे हैं। उसमें 2 करोड़ की जमीन 5 मिनट में 18 करोड़ की हो जा रही है। क्या राम के नाम पर धन की लूट का काम तो नहीं हो रहा है। इसकी गंभीरता से जांच होनी चाहिए। सरकार इसकी उच्चस्तरीय जांच कराए अगर ये लूट हुई है तो उन लोगों को साधारण लोगो से ज्यादा कई गुना ज्यादा सजा मिलनी चाहिए।

आप ने कहा- CBI और ED करे मामले की जांच
आम आदमी पार्टी (आप) से राज्यसभा सदस्य व उत्तर प्रदेश प्रभारी संजय सिंह ने भी अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण करा रहे श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाते हुए उसकी जांच सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) से कराने की मांग की है।

संजय सिंह ने कहा कि ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने संस्था के सदस्य अनिल मिश्रा की मदद से दो करोड़ रुपये कीमत की जमीन 18 करोड़ रुपये में खरीदी। यह सीधे-सीधे मनी लॉड्रिंग का मामला है। सरकार इसकी सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय से जांच कराए। संजय सिंह ने कहा कि दो करोड़ की जमीन खरीद व 18 करोड़ के एग्रीमेंट, दोनों में ट्रस्ट के सदस्य अनिल मिश्रा गवाह हैं।

आरोपों पर ट्रस्ट के महासचिव बोले- समाज को गुमराह करने भ्रामक प्रचार कर रहे
वहीं, ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने आरोपों को गलत बताया है। उन्होंने एक आधिकारिक पत्र जारी कर आरोपों का खंडन किया है। उन्होंने पत्र साझा कर सोशल मीडिया पोस्ट पर लिखा कि राजनीतिक विद्वेष से प्रेरित लोग जमीन खरीद के सम्बन्ध में समाज को गुमराह करने के लिए भ्रामक प्रचार कर रहें हैं।

प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी निशाना साधा

खबरें और भी हैं...