• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Ayodhya
  • Since Childhood, Khabbu Has A Domineering And Aggressive Nature, Came In The Headlines After The Chand Murder Case.Ayodhya. Khabbu Tiwari. Saket Mahavidyalay. Gosaigang

ननिहाल में पला-बढ़ा हैं बाहुबली खब्बू तिवारी:बचपन से ही दबंग और आक्रामक स्वभाव वाला,चांद हत्याकांड के बाद पहली बार सुर्खियों में आया नाम

अयोध्या7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गोशाईगंज का विधायक रहा इंद्रप्रताप तिवारी खब्बू जियकी विधानसभा की सदस्यता गुरुवार को समाप्त कर दी गई - Dainik Bhaskar
गोशाईगंज का विधायक रहा इंद्रप्रताप तिवारी खब्बू जियकी विधानसभा की सदस्यता गुरुवार को समाप्त कर दी गई

बाहुबली इंद्रप्रताप तिवारी खब्बू विधानसभा की सदस्यता समाप्त होने के बाद गुरुवार को चर्चा में हैं। वह अयोध्या जिले के गोसाईगंज विधानसभा सीट से 2017 में भाजपा-अपना दल के प्रत्याशी के रूप में पहली बार विधायक बना था।बचपन से ही दबंग व आक्रामक स्वभाव वाला खब्बू छात्र जीवन के ही अपराध की दुनियां में उतर आयाl

बरईपारा अपने ननिहाल में ही रह कर पले बढ़े

साकेत महाविद्यालय में Bsc दूसरे साल के प्रवेश में फेक मार्कशीट लगाने के मामले में 5 साल की सजा के बाद से 18 अक्टूबर से वह फैजाबाद जेल में बंद हैं। खब्बू तिवारी मूल रूप से गोरखपुर के रहने वाला है। लेकिन उसका जीवन अयोध्या में मौजूद ननिहाल में बीता। जो मया ब्लॉक के बरईपारा गांव में है। वह बचपन से ही बरईपारा अपने ननिहाल में ही रह कर पला-बढ़ा और उसने उच्च शिक्षा अयोध्या के साकेत महाविद्यालय से प्राप्त की।

प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सम्मानित करता विधायक खब्बू तिवारी (फाइल फोटो)
प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सम्मानित करता विधायक खब्बू तिवारी (फाइल फोटो)

राजनीतिक करियर साकेत महाविद्यालय के महामंत्री पद की जीत से 1992 में शुरू हुआ

खब्बू तिवारी का राजनीतिक करियर साकेत महाविद्यालय के महामंत्री पद की जीत से 1992 में शुरू हुआ। वह 2 बार जिला पंचायत सदस्य रहा। इसके बाद वह गोसाईगंज विधानसभा से अपना दल-भाजपा के टिकट पर चुनाव जीता। इसके पहले 2007 के चुनाव में समाजवादी पार्टी के टिकट पर अयोध्या विधानसभा चुनाव लड़ा। 2012 में बहुजन समाज पार्टी के टिकट पर गोसाईगंज विधानसभा से चुनावी मैदान में उतरा। लेकिन दोनों बार किस्मत ने उसका साथ नहीं दिया। गोसाईगंज विधानसभा में लगभग 62000 वोट पाकर भी सपा के अभय सिंह के मुकाबले में चुनाव हार गया।

अयोध्या जिला जेल में बंद हैं और जमानत का कर रहा इंतजार

2017 में किस्मत ने खब्बू का साथ दिया और वे यह चुनाव जीत गया। लेकिन दुर्भाग्य ने उसका पीछा नहीं छोड़ा। 5 साल पूरे होते, उसके पहले ही फर्जी अंक प्रमाणपत्र के सहारे दाखिला लेने के मामले में एमपी-एमएलए कोर्ट ने उसे 5 साल की सजा सुना दी। मौजूदा समय में खब्बू तिवारी अयोध्या जिला जेल में निरुद्ध है। वह जमानत के लिए हाईकोर्ट में जूझ रहा है।

अयोध्या, सुल्तानपुर सहित कई जिलों में आपराधिक मामलों में उनका नाम

1991 में फैजाबाद के पुष्पराज चौराहे पर चांद नैय्यर इकबाल हत्यकांड में उनका नाम सामने आया। खब्बू इसमें बच तो गए। पर इसके बाद अयोध्या,सुल्तानपुर व मिर्जापुर सहित कई जिलों में हत्या व हत्या के प्रयास में उनका नाम सामने आया। इनके बारे में कहा जाता है कि खब्बू विरोधियों को उनकी भाषा में तुरंत जबाब देने में माहिर हैं।

खब्बू एक बेटी के पिता हैं

खब्बू एक बेटी के पिता हैं। वह डेढ़ साल की अपनी बेटी से बहुत प्यार करते हैं। हालांकि जब वह घर-परिवार की खातिर खुद को बदलने की चाहत में थे। तो एक बार फिर संघर्ष के मोड़ पर आ खड़े हुए हैं। उनके परिजनों को भरोसा है कि उन्हें फंसाया गया है। जिसमें जल्द ही उन्हें इंसाफ मिलेगा।

खबरें और भी हैं...