कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय के लाइब्रेरी में:छात्राएं पढ़ेंगी रोचक प्रसंग, संस्कृति और ज्ञानवर्धक किताबें; कंप्यूटर लैब का भी किया जाएगा निर्माण

अयोध्या4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय की लाइब्रेरी और कंप्यूटर लैब की होगी स्थापना - Dainik Bhaskar
कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय की लाइब्रेरी और कंप्यूटर लैब की होगी स्थापना

अयोध्या में कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय की लाइब्रेरी में छात्राएं रोचक प्रसंग, संस्कृति और ज्ञानवर्धक किताबें पढ़ेंगी। नेशनल बुक ट्रस्ट इंडिया (एनबीटी) से विद्यालयों में पुस्तकों की उपलब्धता कराई जाएगी। इसके अलावा इन छात्रों के लिए प्रत्येक विद्यालयों में कंप्यूटर लैब का भी निर्माण कराया जाएगा।

जिले भर में दस कस्तूरबा गांधी स्कूल है। यहां करीब 1000 छात्राएं कक्षा छह से आठवीं तक की पढ़ाई कर रही हैं। छात्राओं में पढ़ाई की रुचि जगे इसी मकसद से बेसिक शिक्षा विभाग ने लाइब्रेरी को पुनः विकसित करने का निर्णय लिया है। छात्रों को पढ़ने की आदत डलवाने के लिए लाइब्रेरी का अलग पीरियड होगा। जिस तरह विश्वविद्यालय, महाविद्यालय और तकनीकी शिक्षण संस्थानों में छात्र-छात्राएं लाइब्रेरी में बैठकर पढ़ाई करते हैं, ठीक वैसे ही अब परिषदीय और उच्च परिषदीय के बाद कस्तूरबा गांधी स्कूलों में भी छात्राएं पुस्तकालय में बैठकर पढ़ती नजर आएंगी।

शासन ने कस्तूरबा गांधी स्कूलों की हालत सुधारने की कवायद शुरू कर दी है। पुस्तकालय में अध्ययनरत बालिकाओं को अधिक से अधिक ज्ञानवर्धक, सामान्य ज्ञान, रोचक पुस्तकें पढ़ने के लिए उपलब्ध कराई जाएंगी। इसके लिए नेशनल बुक ट्रस्ट की किताबों का चयन किया गया है। चयनित किताबों का अलग-अलग मूल्य और कुल योग का बेसिक शिक्षा विभाग से आपूर्ति और परिवहन मूल्य सहित आदि का विवरण मांगा गया है। अफसरों के मुताबिक पुस्तकों के लिए संस्था से विद्यालयवार सेट की आपूर्ति की समय-सीमा को भी तय करने को कहा गया है। आपूर्ति के बाद पुस्तकों के सत्यापन की प्रक्रिया को सुनिश्चित करने के साथ पुस्तकों की आपूर्ति के भुगतान के लिए बैंक से संबंधित सभी जरूरी जानकारियां जल्द से जल्द उपलब्ध कराने को कहा गया है।

प्रत्येक विद्यालय में कंप्यूटर लैब की होगी व्यवस्था

बीएसए संतोष कुमार राय ने बताया कि शासन स्तर पर धीरे-धीरे बदल रही स्कूलों की सूरत जिले में कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय के हालत को बदलने की कवायद जारी है। स्कूलों में छात्रों को आधुनिक ज्ञान देने के प्रयास किए जा रहे हैं। शिक्षकों को भी नए नए प्रशिक्षण मिल रहे हैं। जल्द ही जिले के सभी विद्यालयों में कंप्यूटर लैब का निर्माण भी किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...