योगी मंदिर में अमित जानी ने चढ़ाया चांदी का छत्र:कहा सपा मुखिया अपने नाम से बनावा लें एक औरंगजेब मदरसा

अयोध्या4 महीने पहले
नवनिर्माण सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित जानी ने योगी मंदिर में सवा किलो चांदी का चढ़ाया छत्र।

अयोध्या शहर में भरतकुंड के पास मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का मंदिर बनाया गया है। मौर्या का पुरवा गांव के निवासी प्रभाकर मौर्य (32) ने 8.56 लाख रुपए की लागत से यह बनवाया है। इसमें योगी को राम के अवतार में दिखाया गया है। मूर्ति के हाथ में धनुष और तीर भी थमाया गया है। मंदिर में लोगों की भीड़ लगने लगी है। भास्कर की खबर देखने के बाद प्रदेश नवनिर्माण सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित जानी योगी कें मंदिर पहुंचकर सवा किलो चांदी का छत्र चढ़ाया है। बसपा के पूर्व प्रत्याशी गगन कम्बोज ने भी योगी मंदिर पहुंचकर आरती उतारी है।

सवा किलो चांदी छत्र चढ़ाकर किया पूजन अर्चन

उत्तर प्रदेश नवनिर्माण सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित जानी बुधवार को मौर्या का पुरवा गांव पहुंचे। जहां उन्होंने योगी मंदिर में दर्शन पूजन किया। इस दौरान उन्होंने एक सवा किलो चांदी का छत्र भी चढ़ाया। अमित जानी ने कहा कि अयोध्या श्री राम की नगरी है। श्री राम भी मानव रूप मे ही जनकल्याण हेतु धरती पे आये थे। वे पुरुषों मे उत्तम थे, इसीलिए उनको पुरुषोत्तम कहा गया है। योगी आदित्यनाथ भी नेताओं और राजपुरुषों मे उत्तम है। हम गुरु के रूप मे गोरखनाथ, बालकनाथ , संत कबीर, संत रैदास को आदर्श मानते है। बुद्ध भी क्षत्रिय राजकुमार थे, जनकल्याण मे जीवन लगा देने के बाद वे भी भगवान कहलाए।

योगी कलयुग में भगवान का अवतार

कोई व्यक्ति यदि योगी जैसे संत को मंदिर मे स्थापित कर रहा है तो इसमें कुछ भी धर्म विरोधी नहीं है। योगी क्षत्रिय है, धनुष बाण क्षत्रियोंका आभूषण है। धनुष यदि योगी के हाथ मे नही होगा तो क्या आज़म खान , मुख़्तार अंसारी जैसे दानवों के हाथ में होगा ? अमित जानी ने कहा कि वे योगी को कलयुग का अवतार ही मानते है। जिन्होंने गौरक्षा, धर्म रक्षा मे जीवन लगा दिया। उत्तर प्रदेश की असुरी शक्तियों को ठिकाने लगाने मे उनकी बड़ी भूमिका है। उनके आने से दानवों में खलबली है। यही रामराज्य की पराकाष्ठा है।

योगी मंदिर में चादी का छत्र चढ़ाने पहुंचे राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित जानी साथ में प्रभाकर मौर्य और बसपा के पूर्व प्रत्याशी गगन कम्बोज
योगी मंदिर में चादी का छत्र चढ़ाने पहुंचे राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित जानी साथ में प्रभाकर मौर्य और बसपा के पूर्व प्रत्याशी गगन कम्बोज

अखिलेश यादव "पू मदरसा इस्लामिया " या ""औरंगजेब मदरसा" बना सकते है

अमित जानी ने इस मौके पे सपा मुखिया पे तंज किया कहा कि योगी जी के मंदिर का निर्माण हो गया तो अखिलेश क्यो चिड़ गये? उनके भी बहुत समर्थक है जो उनके नाम से "पू मदरसा इस्लामिया " या ""औरंगजेब मदरसा" बना सकते है। खुद की हाथ मे सुदर्शन चक्र के साथ बनाई गई पेंटिंग को देखकर अखिलेश मंत्रमुग्ध होकर खुद को श्री कृष्ण समझने लगते है, जबकि एक संत के मंदिर से जल भुन गये है। आपको बता दे उत्तर प्रदेश नवनिर्माण सेना लखनऊ मे योगी पीएम के होर्डिंग लगाकर पहले भी योगी का समर्थन कर चुकी है।

बसपा के पूर्व प्रत्याशी गगन कम्बोज ने भी की आरती

उत्तराखंड की काशीपुर विधानसभा सीट से इस बार बसपा के टिकट पे चुनाव लड़े गगन कम्बोज भी योगी मंदिर पहुंचे। जहाँ उन्होंने आरती पूजा करके योगी के प्रति अपने भाव प्रकट किये। गगन कम्बोज ने बातचीत में बताया कि कोई किसी भी दल मे हो बाबा सबके लिए संत पहले है और नेता बाद मे। योगी के मंदिर की खबर सुनते ही मैं रात भर चलकर उत्तराखंड से यहाँ आया हुँ। योगी जी का मंदिर बन गया ये भारतीय सनातन संस्कृति के उस कार्य को बढ़ावा दिया गया है, जिसमे आदि काल से संतो की पूजा होती थी।

खबरें और भी हैं...