लालगंज में धूमधाम से मनाया गया जीवित्पुत्रिका ​​​​​​​पर्व:पुत्रों के दीर्घायु व सुखी जीवन के लिए माताओं ने रखा निर्जला व्रत, की पूजा-अर्चना

लालगंज (आजमगढ़)7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

आजमगढ़ के लालगंज तहसील क्षेत्र में जीवित्पुत्रिका पर्व धूमधाम से मनाया गया। पुत्रों की दीर्घायु के लिए माताओं ने 24 घंटा निर्जला व्रत रखकर पूजा अर्चना की। क्षेत्र के प्रत्येक गांव की माताएं एक निश्चित स्थान पर इकट्ठा हुईं। सभी ने मिलकर पूजा की। ज्ञात हो पुत्र की दीर्घायु के लिए जीवित्पुत्रिका का त्योहार प्रतिवर्ष मनाया जाता है।

गांव की महिलाएं कथा व वार्ता भी करती हैं

जीवित्पुत्रिका त्यौहार में 24 घंटा माताएं बिना निर्जला व्रत करती हैं। इसके बाद शाम को बड़े थारों में प्रसाद, फल, फूल, मीठा, साड़ी, कपड़ा, सोने-चांदी की जिउतिया (गांव में गोठ बोला जाता है) लेकर ईकट्ठा होकर पूजा-पाठ करती हैं। गांव की महिलाएं तमाम कथा व वार्ता भी करती हैं।

इसमें जिन माताओं को बच्चा होता है, पहली बार अपनी क्षमता के अनुसार सोने या चांदी के जिउतिया बनवाती हैं। सरोज सिंह ,माधुरी सिंह ,मालती सिंह इत्यादि महिलाओं ने बताया कि जीवित्पुत्रिका त्योहार इस आशा विश्वास के साथ मनाया जाता है कि बच्चे हमेशा जहां भी रहे सुरक्षित ,स्वस्थ, और सुखी रहे।

सामाजिक मान्यता है कि जिन महिलाओं को पुत्र प्राप्ति में देर होती है, वह भी जीवित्पुत्रिका का संकल्प लेती हैं। पुत्र प्राप्ति के बाद जीवित्पुत्रिका का व्रत करने लगती हैं। क्षेत्र की तरफ काजीग्राम में चेवार पश्चिम ग्राम में, लालगंज नगर, देवगांव बाजार ,निहोरगंज बाजार इत्यादि बाजारों और गांव में जीवित्पुत्रिका का त्यौहार धूमधाम से मनाया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...