आजमगढ़ में 300 महिला आरक्षी बनी रिक्रूट:महिला रिक्रूट दीक्षा सिंह बनी परेड कमांडर, DIG ने दी अनुशासन में रहने की नसीहत

आजमगढ़6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आजमगढ़ में महिला आरक्षियों का हुआ दीक्षांत, 300 महिला आरक्षी बनी रिक्रूट। - Dainik Bhaskar
आजमगढ़ में महिला आरक्षियों का हुआ दीक्षांत, 300 महिला आरक्षी बनी रिक्रूट।

आजमगढ़ जिले की पुलिस लाइन में महिला आरक्षियों का दीक्षान्त परेड आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम में 300 महिला सिपाहियों को शपथ दिलाई गई। जिले में 28 जून से प्रशिक्षण चल रहा था। इस प्रशिक्षण में आजमगढ़ जिले से 75 , जालौन से 53, मऊ से 65, प्रतापगढ़ से 61, महोबा से 47 महिला रिक्रूट आरक्षीगण सम्मिलित थी। इस कार्यक्रम में मंडल के DIG अखिलेश कुमार व जिले के SP अनुराग आर्य ने सभी महिला आरक्षियों को उनके दायित्वों की शपथ दिलाई। छह माह के आधारभूत प्रशिक्षण में प्रशिक्षुओं को अन्तः कक्षीय में कुल आठ विषय तथा बाह्य-कक्षीय में कुल 10 विषय का गहन अनुशासित प्रशिक्षण दिया गया, जिससे अपने जीवन में आने वाली चुनौतियों का सामना कर सकें।

DIG ने दी अनुशासन में रहने की नसीहत
महिला आरक्षियों को सम्बोधित करते हुए मंडल के DIG अखिलेश कुमार ने सभी को अनुशासन में रहने की नसीहत देते हुए कहा कि अनुशासन में रहकर जीवन में आगे बढ़े। इसके साथ ही सामाजिक बुराईयों से दूर रहने की नसीहत दी। परेड में सम्मिलित 13 टोलियों का निरीक्षण किया गया। इस परेड में प्रथम कमांडर के रूप में दीक्षा सिंह, द्वितीय कमांडर पायल गौंड व तृतीय कमांडर संगीता यादव को चुना गया। इसके साथ ही ओवर ऑल दीक्षा सिंह को पहला पुरस्कार दिया गया।