आजमगढ़ अखिलेश यादव ने भेजे थे हत्यारे:पुलिस ने किया तीन शूटरों को गिरफ्तार, दरोगा ने भाई की हत्या का बदला लेने के लिए रची थी साजिश

आजमगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आजमगढ़ के थाना रानी के सराय में सब इंस्पेक्टर द्वारा भेजे गए हत्यारों को गिरफ्तार करने के बाद मामले की जानकारी देते जिले के SP अनुराग आर्य। - Dainik Bhaskar
आजमगढ़ के थाना रानी के सराय में सब इंस्पेक्टर द्वारा भेजे गए हत्यारों को गिरफ्तार करने के बाद मामले की जानकारी देते जिले के SP अनुराग आर्य।

आजमगढ़ पुलिस ने आज गोंडा से जिले में हत्या करने आए तीन शूटरों को गिरफ्तार करने में सफलता पाई है। जिले के SP अनुराग आर्य के निर्देश में अपराधियों के विरूद्ध अभियान चलाया गया है। इसी के अन्तर्गत रानी की सराय थाना क्षेत्र के अल्लीपुर डीहबाबा के पास से तीन अभियुक्तों को गिरफ्तार किया है। इनके कब्जे से दो तमंचा, 9 कारतूस के साथ एक मोटरसाइकिल बरामद हुई है। गिरफ्तार अभियुक्तों की पहचान दीनानाथ यादव पुत्र भगवती यादव, डफली यादव, देवेन्द्रनाथ यादव सभी नवाबगंज गोंडा के रहने वाले हैं, और इन अभियुक्तों के ऊपर पहले से ही मुकदमें दर्ज हैं।

2020 में हुई थी सब इंस्पेक्टर के भाई की हत्या
जिले के SP अनुराग आर्य ने बताया कि आजमगढ़ के रानी की सराय के अल्लीपुर गांव के रहने वाले सब इंस्पेक्टर के भाई की हत्या 2020 में की गई थी। मामले में सभी अभियुक्तों को गिरफ्तार कर गैंगेस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई की गई थी। एक आरोपी जमानत पर था, जिसकी हत्या के लिए शूटर भेजे गए थे। SP ने बताया कि सब इंस्पेक्टर अखिलेश यादव को हिरासत में लेने के लिए पुलिस टीम रवाना कर दी गई है। इसके साथ ही उन पर कार्रवाई के लिए SP गोंडा को पत्र लिखा गया है।

शूटरों को दरोगा ने दी 20 हजार की पेशगी
गिरफ्तार तीनों अभियुक्तों ने बताया कि दरोगा अखिलेश यादव ने अल्लीपुर गांव के रहने वाले रोहित की हत्या के लिए हम लोगों को 20 हजार रूपए दिए थे, जिससे हम लोगों ने तमंचा व कारतूस खरीदा। SP ने इस कांड का पर्दाफाश करने वाली टीम को 15 हजार की धरनाशि से पुरस्कृत करते हुए कहा कि प्रो-एक्टिव पुलिसिंग का यह अच्छा उदाहरण है।