आजमगढ़...जहरीली शराब कांड में एक और दुकान निलंबित:10 दुकानें हो चुकी हैं निरस्त,12 आरोपियों पर गैंगेस्टर लगने के बाद विवेचना में नाम आने पर नोटिस जारी

आजमगढ़3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आजमगढ़ जिला प्रशासन ने सात अप्रैल को जहरीली शराब कांड के 12 आरोपितों पर की थी गैंगेस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई। - Dainik Bhaskar
आजमगढ़ जिला प्रशासन ने सात अप्रैल को जहरीली शराब कांड के 12 आरोपितों पर की थी गैंगेस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई।

आजमगढ़ जिला प्रशासन ने 21 फरवरी को अहिरौला थाना क्षेत्र के माहुल में जहरीली शराब से हुई 13 से अधिक मौतों के मामले में बड़ी कार्रवाई की है। जिला प्रशासन ने मामले में शामिल 12 अभियुक्तों पर सात अप्रैल को गैंगेस्टर एक्ट की कार्रवाई की है। अब तक जिला प्रशासन 10 शराब की दुकानों को निरस्त भी कर चुका है। पुलिस की विवेचना में दीदारगंज थाना क्षेत्र में देशी शराब की दुकान का भी नाम सामने आया। दीदारगंज थाना क्षेत्र में पड़ने वाली इस दुकान का नाम सामने आने पर देशी शराब की दुकान को निलंबित कर दिया गया है। इसके साथ ही इस दुकान को नोटिस भी जारी किया गया है, जवाब सही नही पाए जाने पर इस दुकान को भी जिला प्रशासन निरस्त कर सकता है। इस दुकान के अनुज्ञापी पंकज कुमार यादव पुत्र दयाराम यादव हैं। इस मामले में 22 फरवरी को अहिरौला थाने में धारा 272 /273/302/34 भादवि व 60(ए) आबकारी अधिनियम बनाम मुख्य आरोपी रंगेश यादव आदि सात नामजद पंजीकृत किया गया।

इन आरोपियों पर लगा है गैंगेस्टर
जिले के एसपी अनुराग आर्य ने संयुक्त रूप से गैंगेस्टर की पुष्टि करते हुए बताया कि जहरीली शराब की घटना के मुख्य आरोपित रंगेश यादव पुत्र बजरंगी निवासी परतहिया थाना-खुटहन, जौनपुर, सूर्यभान पुत्र रामफेर निवासी बुवाई थाना दीदारगंज, पुनीत कुमार यादव पुत्र दयाराम यादव चकगंजली थाना दीदारगंज, राम भोज पुत्र सुग्रीव निवासी समसल्लीपुर थाना अहरौला, अशोक यादव पुत्र रामबाबू निवासी उतपुर थाना फूलपुर, पंकज यादव पुत्र दयाराम निवासी चकगंजलीशाह (सरांवा) थाना दीदारगंज, मो. फहीम पुत्र मु. सईद निवासी रूपाईपुर थाना अहरौला, मो. नदीम पुत्र सईद निवासी रूपाईपुर थाना अहिरौला,सहबाज पुत्र मो. रियाज साकिन माहुल थाना अहरौला, मो. कलीम पुत्र मु. सईद निवासी रूपाईपुर थाना अहरौला मो. नईम पुत्र मु. सईद निवासी रूपाईपुर थाना अहरौला व मो. सलीम पुत्र मु. सईद निवासी रूपाईपुर थाना अहरौला जनपद आजमगढ़, को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था।

रंगेश बोला- तीन महीने से ले रहा था शराब
जहरीली शराब कांड में पूर्व बाहुबली सांसद रमाकांत यादव के रिश्तेदार रंगेश यादव ने इस बात को स्वीकार किया था कि तीन महीने से फहीम के यहां बनने वाली जहरीली शराब की बिक्री करता था। इसी जहरीली शराब के पीने से 13 लोगों की अभी तक मौत हुई थी और 60 से ज्यादा लोगों को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

आजमगढ़ काली कमाई से खड़ा किया था आलीशन बंगला
आजमगढ़ जिला मुख्यालय से 60 किलोमीटर दूर माहुल के रूपईपुर स्थित अवैध शराब का कारोबार करने वाले नदीम के घर जब पुलिस ने छापेमारी की तो पुलिस हैरान रह गई। काली कमाई से करोड़ों की लागत से तीन आलीशान कोठियां कम समय में बनाई गई। हालांकि पुलिस की छापेमारी से पहले ही यहां पर रहने वाले परिवार के सदस्य फरार हो चुके थे।

माहुल के रूपईपुर गांव में शराब की फैक्ट्री से मोहम्मद फहीम को गिरफ्तार किया गया था। गिरफ्तार मोहम्मद फहीम और ठेके के मालिक रंगेश यादव की निशानदेही पर शराब बनाने के उपकरण, अवैध शराब, बार कोड, कफ सीरप भी बरामद हुआ था। रंगेश यादव पूर्व सांसद रमाकांत यादव का रिश्तेदार है।

फहीम का माहुल में मेडिकल स्टोर है, जहां कफ सीरप बिक्री और सप्लाई की जाती थी। SP अनुराग आर्य ने छापेमारी का खुलासा करते हुए पूर्व बाहुबली सांसद रमाकांत यादव के रिश्तेदार रंगेश यादव के ठेके से 30 लाख की शराब, कफ सीरप और कई वाहन बरामद किए थे।

उप आबकारी आयुक्त सहित पांच पर हुई कार्रवाई
जिले में शराब से हुई मौतों के मामले में अभी तक पुलिस और आबकारी विभाग के चार कर्मचारियों को निलंबित किया जा चुका है। आबकारी विभाग के तीन कर्मचारियों को पहले ही निलंबित किया जा चुका है।

निलंबित होने वाले कर्मचारियों में निरीक्षक नीरज सिंह, आरक्षी सुमन कुमार पांडेय व राजेन्द्र प्रताप सिंह प्रमुख हैं। वहीं इस मामले में अहिरौला थाने के इंस्पेक्टर संजय सिंह को भी निलंबित किया जा चुका है। माहुल में जहरीली शराब से हुई 13 मौतों के बाद उप आबकारी आयुक्त लाल बहादुर मिश्रा को हटा कर प्रयागराज से संबंद्ध किया गया था।

खबरें और भी हैं...