पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आजमगढ़ में हिन्दी दिवस पर एप्रन में भरे रंग:मातृभाषा के सम्मान में कलाकारों की संदेशात्मक प्रस्तुति, नई पीढ़ी को रोचक तरीके से वर्णमाला की दी गई जानकारी

आजमगढ़14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
आजमगढ़ जिले में हिन्दी दिवस के अवसर पर बच्चों ने भरे एप्रन में वर्णमाला के रंग। - Dainik Bhaskar
आजमगढ़ जिले में हिन्दी दिवस के अवसर पर बच्चों ने भरे एप्रन में वर्णमाला के रंग।

आजमगढ़ जिले में हिन्दी दिवस के अवसर पर मातृभाषा के सम्मान में एप्रन में रंग भरे गए। जिले का फाइन आर्ट सेंटर पिछले कई वर्षो से मातृभाषा हिंदी के सम्मान में अपनी कलात्मक प्रस्तुति देता रहा है। हिन्दी दिवस के अवसर पर सेंटर के 36 कलाकारों ने एप्रन में रंग भरे। प्रदर्शनी में हिंदी वर्णमाला के क, ख, ग से क्ष, त्र, ज्ञ तक हर वर्ण से एप्रन में चित्रकारी की गई है। हिंदी वर्णमाला के वर्ण क से किताब, ख से खरगोश, ग से गमला घ से घड़ी से लेकर क्ष से क्षमा-प्रार्थना, त्र से त्रिशूल व ज्ञ से ज्ञान-वृक्ष तक वर्णों के आधार पर एप्रन में अंकन का निःशुल्क प्रशिक्षण दिया गया। कलाकार व गृहिणी दोनों के लिए उपयोगी एप्रन आत्मनिर्भर भारत के तत्वावधान में रोजगारोन्मुख कदम है।

पसंद आए तो खरीद सकते हैं एप्रन
फाइन आर्ट सेंटर की निदेशक डा. लीना मिश्रा ने बताया कि हम लोग प्रति वर्ष हिन्दी दिवस के अवसर पर अपनी मातृभाषा के सम्मान में संदेशात्मक प्रस्तुति करते हैं। इससे पहले भी वर्णो के आधार पर छाते में पेंटिंग वर्णाकृति, व्यक्ति चित्रण व्यक्तित्व, हिंदी साहित्य की पुस्तकों के मुख्यपृष्ठ ,कैनवास बैग में चित्रकारी थैलांकन ,अक्षर रंग-बिरंगे इत्यादि कार्यक्रम किए गए हैं। इस तरह के कार्यक्रमों का मुख्य उद्देश्य नई पीढ़ी को रोचक तरीके से ही दी वर्णमाला से अवगत कराना भी है।

खबरें और भी हैं...